DA Image
29 नवंबर, 2020|11:03|IST

अगली स्टोरी

सुजावन देव यमुनाघाट पर उमड़ा श्रद्धा का सैलाब

default image

कार्तिक के पहले रविवार को घूरपुर के सुजावन देव यमुना घाट पर श्रद्धालुओं का जनसैलाब उमड़ा लेकिन अव्यवस्थाओं का बोलबाला रहा।

कार्तिक मास में यमुना स्नान का विशेष महत्व है। कार्तिक मास के प्रथम दिन और प्रथम रविवार के दिन स्थानीय क्षेत्र सहित बारा, करछना तहसील के अंतर्गत हजारों श्रद्धालु यमुना स्नान के लिए भोर चार बजे से ही पहुंचे। ऐतिहसिक धार्मिक आस्था के केंद्र सुजावन देव यमुना घाट पर श्रद्धा का सैलाब उमड़ने लगा जो दोपहर तक चलता रहा। हजारों श्रद्धालुओं ने यमुना में पुण्य की डुबकी लगा पूजा अर्चना दीपदान कर सुजावन देव मंदिर स्थित भगवान शिव का दर्शन कर दान दक्षिणा किया। कोरोना काल के चलते इस बार दुकाने नहीं सजी थी फिर भी कोरोना पर आस्था भारी पड़ा। सुजावन देव मंदिर के पुजारी ज्ञान भारथी ने बताया की लगभग दस हजार से अधिक श्रद्धालुओं ने स्नान किया।

स्थानीय प्रशासन का कोई नही था इंतजाम

यमुना स्नानार्थी अव्यवस्थाओं से नाराज दिखे। कीचड़युक्त घाट में स्नानार्थी फंस और फिसलकर गिरते पड़ते स्नान किए। सबसे फजीहत महिला स्नानार्थियों को हुई भारी भीड़ के बीच महिलाओं को वस्त्र बदलने की कोई व्यवस्था नहीं की गई थी। न ही जल पुलिस की ही व्यवस्था थी यदि कोई श्रद्धालु गहरे पानी में डूबता तो कोई बचाने वाला भी नहीं था। घाट पर रोशनी की भी व्यवस्था नहीं की गई थी। स्थानीय पुलिस भी सुबह नौ बजे पहुंची जिससे स्नानार्थियों को भारी फजीहतों का सामना करना पड़ा।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Sujawan Dev Yamunaghat flooded with reverence