DA Image
2 दिसंबर, 2020|6:12|IST

अगली स्टोरी

राम से अधिक राम कर दासा : मानस चंचरीक जय प्रकाश

राम से अधिक राम कर दासा : मानस चंचरीक जय प्रकाश

पांती मेजारोड प्राचीन सिद्ध हनुमान मंदिर में चल रही मानस कथा के चौथे दिन भक्ति रस की धार बही। इस मौके पर रहे मानस चंचरीक पं. जय प्रकाश मिश्र ने कहा कि भक्ति में शक्ति निहीत है, यदि मन लगाकर किसी के सेवा करें तो उसका फल अवश्य ही मिलता है।

इससे पूर्व वाराणसी से पहुंचे राम सूरत महाराज ने कहा कि बिनु सत्संग विवेक न होई, राम कृपा बिनु सुलभ न सोई। कहा, मनुष्य को सत्संग करना चाहिए। मानस कथा में प्रमुख श्रोताओं में इंजीनियर नित्यानंद उपाध्याय, विजयानंद उपाध्याय, सिद्धान्त तिवारी, मनीष उपाध्याय, आशीष उपाध्याय, अजीत पांडेय, गुलाब शंकर शुक्ल, जटाशंकर शुक्ल, मंटू मिश्र, राम सागर उपाध्याय, अरुण मिश्र, रमेश ओझा, प्रेम सागर उपाध्याय, रमेश ओझा, पं. देवी प्रसाद मिश्र, अखिल उपाध्याय सहित कई श्रोता उपस्थित रहे।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Ram ki dasa more than Ram Manas Chancharik Jai Prakash