DA Image
16 जनवरी, 2021|5:24|IST

अगली स्टोरी

रेलवे लाइन के किनारे पीएम ने दिया सड़क का तोहफा

रेलवे लाइन के किनारे पीएम ने दिया सड़क का तोहफा

1 / 2प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रेलवे लाइन के किनारे पांच किमी. लंबी और पांच मीटर चौड़ी सड़क विशेषाधिकार के तहत बनाने का आदेश देकर सबका साथ, सबका विकास...

रेलवे लाइन के किनारे पीएम ने दिया सड़क का तोहफा

2 / 2प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रेलवे लाइन के किनारे पांच किमी. लंबी और पांच मीटर चौड़ी सड़क विशेषाधिकार के तहत बनाने का आदेश देकर सबका साथ, सबका विकास...

PreviousNext

नवाबगंज। हिन्दुस्तान संवाद

सरकार की तरफ से पांच सौ की आबादी वाले हर गांव को पक्की सड़क से जोड़ने की घोषणा भले ही की गई हो पर कौड़िहार ब्लॉक की कूढ़ा ग्राम पंचायत और आसपास के कई गांव के दो हजार से ज्यादा ग्रामीणों के लिए पक्की सड़क किसी सपने से कम नहीं था। पगडंडियों और ऊबड़खाबड़ रास्ते पर चलने को हजारों ग्रामीण मजबूर थे l

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रेलवे लाइन के किनारे पांच किमी. लंबी और पांच मीटर चौड़ी सड़क विशेषाधिकार के तहत बनाने का आदेश देकर सबका साथ, सबका विकास के नारे को सार्थक किया l नवाबगंज से जगापुर तक पक्की सड़क का निर्माण शुरू हो गया है l इससे ग्रामीणों के चेहरे खुशी से खिल गए हैं। आजादी के बाद भले ही अन्य इलाके में सड़कों का जाल बिछा हो पर भवानीपुर, कूढ़ा, बेरावा, लाई ग्राम पंचायतों के ज्यादतर गांव के लोग मेड़-चकरोड, पगडंडी पर चलने को मजबूर रहे। कई पीढ़ियां गुजर गईं। पर गांव में पक्की सड़क की आस पूरी न हो सकी। पयासी का पूरा निवासी आत्मा प्रकाश तिवारी और बुजुर्ग पंडित पयासी बताते हैं कि शादी-विवाह, भोज जैसे सार्वजनिक आयोजन प्रभावित होते थे। स्थानीय ग्रामीणों की मानें तो बेटे-बेटियों की शादी तक बाधित हो रही थी। दो हजार से ज्यादा आबादी वाले पयासी का पूरा, भैरोंपुर, भीटा, तारा, रामजी का पूरा, डिहवा, खरगापुर, पतियरिया, भवानीपुर समेत आसपास के कई गांव की सामाजिक पहचान अति पिछड़े इलाके के रूप में होती रही। रामजी के पूरा निवासी बुजुर्ग डॉ. ह्रदय नारायण, आलोक कुमार, सतीश द्विवेदी ने बताया कि किस तरह बच्चों और रोगियों को स्कूल-हॉस्पिटल ले जाने-लाने में मुसीबत का सामना करते रहे।

पिछले तीन साल से इलाके के कुछ उत्साही लोगों ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, रेलमंत्री सुरेश प्रभु से लेकर पीयूष गोयल, मनोज सिन्हा तक से पत्राचार किया। पूर्व विधायक व पीएम मोदी के संसदीय क्षेत्र काशी के प्रभारी प्रभा शंकर पांडेय ने कुछ स्थानीय लोगों के साथ भाग-दौड़ की। इधर लगातार पत्राचार भी होता रहा, आखिरकार कामयाबी मिली और सड़क निर्माण ने आधा दर्जन से ज्यादा गांवों के करीब आठ- दस हजार ग्रामीणों की मुश्किल दूर कर दी l

60 साल से चकबंदी न होना रही वजह

करीब साठ साल से कुढ़ा ग्राम पंचायत में चकबंदी नहीं होने से यहां के पांच गांव में सरकारी गलियारा, चकरोड और सार्वजनिक रास्ते किसानों के कब्जे में हैं। लिहाजा, अगल-बगल तक के कई गांव में पक्की सड़क को कौन कहे सार्वजनिक रास्ते तक को लोग तरस रहे हैं l जगह के अभाव ने मुसीबत बढ़ाई है। बहरहाल, रेलवे लाइन के किनारे बन रही पक्की सड़क ने इलाके के ग्रामीणों को काफी राहत दी है l

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:PM gave the gift of road along the railway line