DA Image
हिंदी न्यूज़ › उत्तर प्रदेश › गंगापार › पहाड़ की जमीन पर हकदारी के लिए किसान की हत्या
गंगापार

पहाड़ की जमीन पर हकदारी के लिए किसान की हत्या

हिन्दुस्तान टीम,गंगापारPublished By: Newswrap
Mon, 02 Aug 2021 04:03 AM
पहाड़ की जमीन पर हकदारी में लालापुर के डेराबारी गांव में शनिवार की रात एक किसान की गोली मार कर हत्या कर दी गई। हत्या के बाद आरोपित घर में ताला लगाकर...
1 / 3पहाड़ की जमीन पर हकदारी में लालापुर के डेराबारी गांव में शनिवार की रात एक किसान की गोली मार कर हत्या कर दी गई। हत्या के बाद आरोपित घर में ताला लगाकर...
पहाड़ की जमीन पर हकदारी में लालापुर के डेराबारी गांव में शनिवार की रात एक किसान की गोली मार कर हत्या कर दी गई। हत्या के बाद आरोपित घर में ताला लगाकर...
2 / 3पहाड़ की जमीन पर हकदारी में लालापुर के डेराबारी गांव में शनिवार की रात एक किसान की गोली मार कर हत्या कर दी गई। हत्या के बाद आरोपित घर में ताला लगाकर...
पहाड़ की जमीन पर हकदारी में लालापुर के डेराबारी गांव में शनिवार की रात एक किसान की गोली मार कर हत्या कर दी गई। हत्या के बाद आरोपित घर में ताला लगाकर...
3 / 3पहाड़ की जमीन पर हकदारी में लालापुर के डेराबारी गांव में शनिवार की रात एक किसान की गोली मार कर हत्या कर दी गई। हत्या के बाद आरोपित घर में ताला लगाकर...

लालापुर/बसहरा। हिन्दुस्तान संवाद

पहाड़ की जमीन पर हकदारी में लालापुर के डेराबारी गांव में शनिवार की रात एक किसान की गोली मार कर हत्या कर दी गई। देर रात हुई हत्या की सूचना से गांव सहित पुलिस प्रशासन में हड़कंप मच गया। हत्या के बाद आरोपित घर में ताला लगाकर परिवार सहित भाग निकले। मौके पर पहुंचे एसपी यमुनापार व कई थानों की फोर्स ने किसान के शव को पोस्टमार्टम के लिए भेजना चाहा लेकिन पीड़ित परिवार ने हत्यारोपियों को पकड़ने तक शव को उठाने से मना कर दिया। रविवार सुबह पुलिस दोबार गांव पहुंची और परिजनों को समझा बुझाकर शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया।

लालापुर के डेराबारी गांव निवासी पुष्करनाथ द्विवेदी (47) और उनके भतीजे राजेन्द्र प्रसाद द्विवेदी के बीच पहाड़ की पैतृक जमीन को लेकर कई दिनों से विवाद चल रहा था। शनिवार रात लगभग 9:30 बजे दोनों पक्ष अपनी अपनी छत से एक दूसरे को भला-बुरा कह रहे थे। कुछ देर में मामला शांत हो गया। कुछ समय बाद पुष्कर नाथ का बेटा प्रकाश घर से बाहर निकला और राजेंद्र के घर के बच्चों से उसका विवाद हो गया। बेटे से विवाद की बात सुन पुष्कर घर से अपने बेटे को समझा कर वापस हो ही रहा था कि उसे गोली मार दी गई। गोली की आवाज सुन पुष्कर के घर के लोग दौड़े तो देखा वह खून से लथपथ कराह रहा था। परिजन आनन फानन उसे कार से शंकरगढ़ अस्पताल ले गए जहां डॉक्टरों ने पुष्कर को मृत घोषित कर दिया। परिजन लाश लेकर घर आये तब तक आरोपित घर में ताला लगाकर भाग निकले थे।

घटना की सूचना पुलिस को हुई तो एसपी यमुनापार सौरभ दीक्षित, सीओ अवधेश कुमार शुक्ल, एसओ लालापुर वृंदावन राय कई थानों की फोर्स लेकर मौके पर पहुंच गए। कुछ देर तक बताया गया कि पुष्करनाथ का बेटा जितेंद्र यूपी पुलिस में है और बांदा में कार्यरत है, उसके आने पर शव उठेगा। देर रात जब जितेंद्र आया तो उसने पुलिस से कहा जब तक आरोपी नहीं पकड़े जाएंगे, तब तक लाश नहीं उठेगी। इस बीच पुलिस अधिकारियों ने काफी समझाने का प्रयास किया लेकिन कोई बात नहीं बनी। रविवार सुबह पहुंचे एसओ लालापुर वृंदावन राय व अन्य पुलिस अफसरों ने समझाया तब जाकर शव का पंचनामा कर पोस्टमार्टम के लिए भेजा जा सका। पीड़ित पक्ष की तहरीर पर राजेन्द्र द्विवेदी, राजकिशोर द्विवेदी, कौतुल उर्फ विनय, अंसल उर्फ कप्तान, गुड्डू उर्फ ज्ञानेंद्र, साजन उर्फ संजीत के खिलाफ हत्या सहित कई संगीन धाराओं में केस दर्ज कर लिया गया।

कांस्टेबल है मारे गए व्यक्ति का एक बेटा

यमुनापार के लालापुर थानांतर्गत डेराबारी गांव निवासी पुष्कर नाथ द्विवेदी (49) पुत्र वाचस्पति प्रसाद द्विवेदी खेती किसानी करते थे। साथ ही पास के पहाड़ पर बालू तुड़वाते थे। उनका एक बेटा जितेंद्र द्विवेदी यूपी पुलिस में कांस्टेबल है, वर्तमान में बांदा जिले में तैनात है। एक बेटा प्रकाश और एक बेटी पूजा अभी पढ़ाई कर रहे हैं।

तीन घंटे पहले हुआ था भाई-भतीजों से झगड़ा

शनिवार रात में ही घटना से करीब तीन घंटे पहले पुष्करनाथ का उनके भतीजे राजेंद्र द्विवेदी, उनके बेटे राजकिशोर आदि से गेरुहइया पहाड़ी पर स्थित जमीन को लेकर विवाद हुआ था। ग्रामीणों ने बताया कि पुष्करनाथ वहां काम कर रहे थे लेकिन राजेंद्र आदि को नहीं करने दे रहे थे। इसको लेकर तीन दिन से विवाद हो रहा था। इसलिए परिवार के लोग उन्हीं लोगों पर शक जता रहे हैं, जिनसे विवाद हुआ था। जिस जमीन को लेकर दोनों परिवारों में विवाद चल रहा था।

घटना शनिवार देर रात में हुई थी। पुलिस वारदात की जांच कर रही है। परिजनों से भी बातचीत की जाएगी। जल्द से जल्द आरोपियों को गिरफ्तार कर जेल भेजा जाएगा। - सर्वश्रेष्ठ त्रिपाठी, डीआईजी

संबंधित खबरें