DA Image
29 फरवरी, 2020|6:23|IST

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

महेवाकला गंगाघाट पर पीपे के पुल के निर्माण में देरी, दिक्कत

महेवाकला गंगाघाट पर पीपे के पुल के निर्माण में देरी, दिक्कत

महेवाकला गंगाघाट पर बनने वाला पीपे का पुल समय से न बन पाने के कारण आम राहगीरों को दिक्कत हो रही है। महेवाकला गंगाघाट पर 63 पीपे का पुल हर साल आठ नवंबर तक बन जाता था और 15 नवंबर तक हर हालत में राहगीरों की यात्र शुरू हो जाती थी।

पीडब्ल्यूडी की सुस्त कार्यप्रणाली के चलते अब तक गंगा उस पार संत रविदासनगर (भदोही) क्षेत्र में मात्र 22 पीपे बन पाये हैं। इस पार पुल निर्माण के लिए आठ पीपे तथा 700 लकडि़यां कम हैं, जिसके चलते पीपे के पुल का निर्माण अधर में लटका हुआ है। पुल के मेठ सीताराम ने बताया कि उस पार जमीन में दलदल होने के कारण जेसीबी पुल तक नहीं पहुंच पा रहा है, जिसके कारण पुल का निर्माण कार्य अधर में पड़ा हुआ है। मेठ ने यह भी बताया कि अगले सप्ताह तक पुल चालू होने की संभावना है। पुल का निर्माण अधर में होने के कारण लोगों को 50 किलोमीटर अतिरिक्त यात्र करके मिर्जापुर, चील्ह होते हुए जाना पड़ रहा है। इसी पीपे के पुल से तमाम छात्र, व्यवसायी व आम नागरिक आसानी से संतरविदासनगर के विभिन्न गांवों और पर्यटक स्थल सीतामढ़ी तक की यात्रा करते हैं। तमाम राहगीरों, सामाजिक संगठनों एवं ग्राम प्रधानों ने विभागीय अधिकारियों व प्रदेश सरकार से अविलंब पीपे का पुल शुरू कराने की मांग की है, ताकि राहगीरों की यात्र शुरू हो सके।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Delay trouble in construction of pontoon bridge over Mahevakala Gangaghat