Allahabad : Dust flying in ponds, problems of peers - तालाबों में उड़ रही धूल, बेजुबानों को दिक्कत DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

तालाबों में उड़ रही धूल, बेजुबानों को दिक्कत

तालाबों में उड़ रही धूल, बेजुबानों को दिक्कत

विकास खंड के गांवों में तालाबों का अस्तित्व दिनों दिन समाप्त होता जा रहा है। तालाब को पाटकर ग्रामीण अपना आशियाना बना रहे हैं। इधर तालाबों का अस्तित्व नहीं रहा तो गांव के जानवरों को पानी मिलना मुश्किल हो जाएगा।

जसरा ब्लाक के ज्यादातर गांवों में तालाबों का अस्तित्व समाप्त हो रहा है। ग्राम सभा अमरेहा के पूर्व प्रमुख मुस्ताक अहमद सिद्दीकी ने बताया कि गांव के बाहर साढ़े आठ बीघे का तालाब था लेकिन रीवा-इलाहाबाद हाईवे बनाते समय तालाब पाटकर पुल का निर्माण किया गया। दिलीप बिल्डिकान के प्रोजेक्ट मैनेजर ने उसके बदले में गांव सभा के तालाब में खुदाई कराना शुरू किया था कि तत्कालीन एसडीएम ने उसे रोकवा दिया था।

ग्राम प्रधान अमरेहा नजमा बेगम ने इस संबंध में कई बार तहसील दिवस समेत उच्चाधिकारियों को सूचित किया लेकिन तालाब का नामोनिशान नहीं रह गया है। ग्राम सभा की ओर से कई बार इसकी शिकायत एसडीएम बारा से की जा चुकी है उसमें तत्कालीन एसडीएम ने तालाब की खुदाई के लिए आदेश भी दिया था उसके बावजूद अब तक तालाब का निराकरण नहीं किया जा सका है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Allahabad : Dust flying in ponds, problems of peers