ट्रेंडिंग न्यूज़

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ उत्तर प्रदेश फिरोजाबादशिशु को नहीं लेने पर आगरा अधीक्षक पर कार्रवाई को लिखा

शिशु को नहीं लेने पर आगरा अधीक्षक पर कार्रवाई को लिखा

फिरोजाबाद। आगरा के राजकीय बालगृह शिशु के अधीक्षक के विरुद्ध कार्रवाई के लिए जिलाधिकारी...

शिशु को नहीं लेने पर आगरा अधीक्षक पर कार्रवाई को लिखा
Newswrapहिन्दुस्तान टीम,फिरोजाबादWed, 22 Dec 2021 05:30 PM
ऐप पर पढ़ें

फिरोजाबाद। आगरा के राजकीय बालगृह शिशु के अधीक्षक के विरुद्ध कार्रवाई के लिए जिलाधिकारी आगरा को एक पत्र लिखा गया है। इसमें न्यायपीठ न्यायिक मजिस्ट्रेट प्रथम श्रेणी एवं बाल कल्याण समिति ने यह आदेश एक बच्चे को वापस भेजने को लेकर जारी किया है।

जिलाधिकारी आगरा को बुधवार को जारी किए पत्र में न्यायपीठ न्यायिक मजिस्ट्रेट ने कहा है कि एक अज्ञात बालिका को चाइल्ड लाइन ने 18 दिसम्बर को उचित संरक्षण के लिए बाल कल्याण समिति के आगे प्रस्तुत किया था। इसके आब आगरा के राजकीय बालगृह शिशु के अधीक्षक से फोन पर वार्ता के बाद सहमति मिलने पर 19 दिसम्बर को आगरा भेजा गया। चाइल्ड लाइन की टीम जब आगरा लेकर गई तो दोपहर 12 बजे से शाम करीब पांच बजे तक बालिका को खुले में रखा गया।

आरोप है कि बालिका को दूध तक नहीं मुहैया कराया गया। इसके बाद अधीक्षक ने चिकित्सक से आंख का परीक्षण कराने के लिए लिखा और वापस कर दिया। बाल कल्याण समिति के सदस्य डा उग्रसेन पांडेय ने फोन से बच्ची की आयु और सर्दी को देखते हुए तत्काल संवासित करने का आग्रह किया उसे भी संज्ञान में नहीं लिया। जिला प्रोवेशन अधिकारी आगरा से दूरभाष पर आग्रह किया लेकिन उनका दृष्टिकोण बच्ची के प्रति सकारात्मक नहीं रहा। बाल कल्याण समिति का मानना है कि अधीक्षक ने किशोर न्याय अधिनियम 2015 का उल्लंघन किया है और इसकी धारा 75 के तहत अधीक्षक का कृत्य अपराध की श्रेणी में आता है। अतः अधीक्षक के खिलाफ कानूनी कार्रवाई की जाए ताकि भविष्य बच्चों के असहाय भविष्य से खिलवाड़ नहीं हो सके।

epaper