DA Image
22 नवंबर, 2020|7:16|IST

अगली स्टोरी

हाईवे पर बने कट को बंद करने का ग्रामीणों ने किया विरोध

default image

जिलाधिकारी के आदेश पर हाईवे पर बने कट को बंद किया जा रहा है। रविवार को एनएचएआई ने रूपसपुर पर बने कट को बंद करने का प्रयास किया तो ग्रामीणों व कॉलेज के छात्रों ने विरोध कर दिया। लोगों ने जमकर नारेबाजी की। लोगों ने मांग की कि रूपसपुर पर बने कट को बंद नहीं किया जाए। इससे दो दर्जन गांव जुड़े हुए हैं। हाईवे बनाने वालों को ग्रामीणों व छात्रों की दिक्कत को ध्यान में रखना चाहिए।

रविवार को हाइवे प्रशासन हाईवे पर जगह जगह बने कट को बंद करने का काम शुरू किया तो रूपसपुर पर ग्रामीणों ने कट बंद करने का विरोध कर दिया। ग्रामीणों के साथ ही एसीएमटी कॉलेज में पढ़ने वाले छात्रों ने नारेबाजी शुरू कर दी। कॉलेज प्रबंधक ने हाईवे प्रशासन से गुहार लगाते हुए कहा कि महाविद्यालय और पब्लिक स्कूल में हजारों बच्चे पढ़ने के लिए आते हैं अगर हाईवे के कट को बंद कर दिया जाएगा तो बच्चे स्कूल कैसे आएंगे। रूपसपुर कट से लगभग चार दर्जन गांव जुड़े हुए हैं जिनमें रूपसपुर, मोहिनीपुर, मरघटी जलालपुर, दरिगापुर सहित कई गांव प्रभावित होंगे। ऐसे में प्रशासन को लोगों की समस्या देखते हुए हाईवे पर कट दिया जाना चाहिए। इससे लोग आसानी से इधर से उधर जा सके। रूपसपुर पर जब से हाईवे 4 लेन का हुआ था तब से कट बना हुआ है। ऐसे में कट बंद किया जाना ग्रामीणों के लिए दिक्कत भरा है।

पांच किमी वापस लौटकर आना होगा

ग्रामीणों ने बताया कि उनको शिकोहाबाद से लौटकर रूपसपुर आने के लिए उसे 5 किमी की यात्रा कर मक्खनपुर कट से लौटना होगा या फिर वह अरौज गांव के पास बने कट से उल्टी दिशा में चलेगा। इससे हादसा होने की संभावना बढ़ जाएगी। ग्रामीणों के विरोध के चलते कट को बंद नहीं किया गया। ग्रामीणों ने चेतावनी दी कि अगर कट को बंद किया तो ग्रामीण आंदोलन के लिए बाध्य होंगे। ग्रामीणों के विरोध के बीच प्रशासन ने कट को बंद नहीं किया।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Villagers protest against the closure of the highway cut