Troubled by Lekhpal a young man hanged to death - लेखपाल की धमकी से परेशान युवक ने फांसी लगाकर जान दी DA Image
21 नबम्बर, 2019|1:17|IST

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

लेखपाल की धमकी से परेशान युवक ने फांसी लगाकर जान दी

लेखपाल की धमकी से परेशान युवक ने फांसी लगाकर जान दी

1 / 3फरिहा क्षेत्र में एक युवक ने शनिवार की रात लेखपाल की धमकी के चलते फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली। वह दिल्ली नगर निगम में काम करता था। गांव में जमीन को लेकर लेखपाल ने उसे फोन किया था। वह तीन दिन पहले...

लेखपाल की धमकी से परेशान युवक ने फांसी लगाकर जान दी

2 / 3फरिहा क्षेत्र में एक युवक ने शनिवार की रात लेखपाल की धमकी के चलते फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली। वह दिल्ली नगर निगम में काम करता था। गांव में जमीन को लेकर लेखपाल ने उसे फोन किया था। वह तीन दिन पहले...

लेखपाल की धमकी से परेशान युवक ने फांसी लगाकर जान दी

3 / 3फरिहा क्षेत्र में एक युवक ने शनिवार की रात लेखपाल की धमकी के चलते फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली। वह दिल्ली नगर निगम में काम करता था। गांव में जमीन को लेकर लेखपाल ने उसे फोन किया था। वह तीन दिन पहले...

PreviousNext

फरिहा क्षेत्र में एक युवक ने शनिवार की रात लेखपाल की धमकी के चलते फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली। वह दिल्ली नगर निगम में काम करता था। गांव में जमीन को लेकर लेखपाल ने उसे फोन किया था। वह तीन दिन पहले गांव आया था। पुलिस ने शव पोस्टमार्टम को भेज दिया। मरने से पहले उसने सुसाइड नोट भी छोड़ा है। लेखपाल के खिलाफ केस दर्ज न करने पर परिजनों ने शाम को शव थाने के पास रखकर अंतिम संस्कार करने से इनकार कर दिया है।

नवलपुर निवासी वीरेश कुमार यादव (40) पुत्र ज्ञान प्रसाद दिल्ली नगर निगम में चतुर्थश्रेणी कर्मचारी था। उसके परिवार के अन्य लोग भी दिल्ली में ही रहते हैं। गांव में उसे पट्टे पर जगह मिली है। पट्टे की भूमि की आधी जमीन लेखपाल ने दूसरे के नाम कर दी। विरोध करने पर वह भड़क गया। लेखपाल ने उसको फोन किया। वीरेश के भाई किशन की मानें तो लेखपाल ने जमीन को लेकर उसे धमकी दी। उससे कहा कि वह उसे दिल्ली से उठवा लेगा। नोट में लिखा है कि वह 15 हजार रुपया दे चुका है लेखपाल 5000 रुपये की और मांग कर रहा है।

वीरेश तीन दिन पहले गांव आ गया। लेखपाल की धमकी के चलते उसने रात को गले में मफलर बांधकर कुंदे से लटक कर आत्महत्या कर ली। पता चलते ही परिजन घबरा गए। उनकी चीख-पुकार सुनकर काफी लोग एकत्रित हो गए। पुलिस ने शव को पोस्टमार्टम को मेडिकल कॉलेज भिजवाया। मामले में एसपी देहात राजेश कुमार का कहना है कि पूरे मामले की जांच कराई जा रही है। उसी के आधार पर मुकदमा दर्ज होगा।

सुसाइट नोट छोड़ा, हाथ पर भी लिखा

फरिहा। वीरेश ने फांसी पर झूलने से पहले डायरी के दो पन्नों पर सुसाइड नोट लिखा। उसमें सारी व्यथा लिखी है। धमकी के साथ-साथ सुसाइड नोट में सुविधा शुल्क की भी बात कही गई है। इसके अलावा उसने अपने हाथ पर भी सुसाइड नोट लिखा है। भाई ने थाने में घटना की तहरीर दी है।

परिवार में कोहराम मचा

फरिहा। वीरेश की मौत से परिवार में कोहराम मच गया। पता चलते ही उसकी पत्नी की हालत बिगड़ गई। उसकी दो बेटियां हैं। दोनों काफी छोटी हैं। परिवार में चार भाई हैं। सभी की रोते-रोते तबियत खराब हो गई।

मुकदमा लिखाने को शव रखकर थाने बैठे परिजन

फरिहा। लेखपाल के खिलाफ मुकदमा न लिखे जाने पर वीरेश के परिजन गुस्से में आ गए। उन्होंने पोस्टमार्टम के बाद शव को थाना फरिहा के पास रख दिया। भाई किशन का कहना है पुलिस उसकी तहरीर के आधार पर मुकदमा दर्ज नहीं कर रही है। चेतावनी दी है जब तक लेखपाल के खिलाफ मुकदमा दर्ज नहीं होगा वे शव का अंतिम संस्कार नहीं करेंगे। सूचना के बाद एसडीएम जसराना कुमार चंद्र व सीओ जसराना ओपी सिंह थाने पहुंचे। वहीं कई थाने का फोर्स वहां आ गया। परिजनों के साथ में यादव महासभा के अनवर सिंह यादव, अवधेश यादव, धर्म सिंह यादव, अनवर सिंह आदि भी थाने पहुंच गए थे। उनके द्वारा लगातार दबाव बनाया कि आरोपी लेखपाल के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराया जाए।

मुकदमा नहीं लिखने तक गांव में शव रखा रहेगा

रविवार की देर रात परिजन जब परिजनों की तहरीर पर आरोपी लेखपाल के खिलाफ मुकदमा नहीं लिखा गया तो परिजनों ने शव को गांव ले गए। उन्होंने धमकी दी है कि जब तक मुकदमा दर्ज नहीं होगा शव को वे गांव में अंतिम संस्कार नहीं करने ले जाएंगे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Troubled by Lekhpal a young man hanged to death