Stamped on budget of 464 crores - 464 करोड़ के बजट पर लगाई मोहर DA Image
20 नबम्बर, 2019|1:38|IST

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

464 करोड़ के बजट पर लगाई मोहर

नगर निगम में अब बिना पार्षदों की संस्तुति के ठेकेदारों को भुगतान नहीं किया जा सकेगा। मंगलवार को पालीवाल हाल में आयोजित बजट बोर्ड बैठक में यह निर्णय लिया गया। बैठक में वर्ष 2019-2020 का बजट प्रस्तुत किया गया। उसे सर्वसम्मति से पास कर दिया गया। इसके साथ ही 464 करोड़ रुपये के बजट पर मोहर लगाकर उन्हें पास कर दिया गया। बैठक में कई बार तीखी नोंकझोंक भी देखने को मिली। बैठक की शुरूआत मेयर और पार्षद में तकरार के साथ हुई।

बोर्ड बैठक का शुभारंभ वंदे मातरम और पुलवामा के शहीद सैनिकों को श्रद्धांजलि देने के साथ हुआ। सबसे पहले पार्षद देशदीपक यादव ने जब अपने एवं पार्षद अभिनेंद्र यादव के खिलाफ केस दर्ज कराने का मामला उठाने का प्रयास किया तो महापौर ने इस पर चर्चा करने से मना कर दिया। सदन उस समय गरमा गया जब पार्षद मुनेंद्र यादव एक लोकार्पण पट्टिका के साथ मंच तक पहुंच गए। उस पर नाम पर गहरी आपत्ति जताई। उसका समर्थन पार्षद विमला सिंह ने भी किया। इसके बाद कभी मिनट बुक तो कभी हिसाब मांगने पर कई बार नोंकझोंक देखने को मिली। इसके बाद सदन के समक्ष प्रस्तावों की चर्चा शुरू हुई।

पार्षदों के प्रस्ताव संख्या पांच और छह में भारी घोटाले की आशंका जताने पर महापौर ने तत्काल इसे स्थगित कर दिया। इसके अलावा प्रस्ताव संख्या 1,2,3 एवं चार पर भी विचार करने का आश्वासन दिया। समूची बैठक के दौरान विकास को लेकर सत्ता और विपक्ष के पार्षद पूरी तरह एकजुट नजर आ रहे थे। बाद में आपसी सहमति के बाद बजट को सर्वसम्मति से पास कर दिया गया। इसके अलावा एक-दो प्रस्तावों को छोड़कर लगभग सभी प्रस्तावों को हरी झंडी दे दी गई। बैठक में लगभग सभी पार्षद मौजूद थे।

पार्षदों को शांत करते रहे नगर आयुक्त

एक दिन पूर्व ही बजट बैठक हंगामापूर्ण होने के आसार नजर आ रहे थे। इसे लेकर पार्षदों ने रणनीति भी तैयार कर ली थी। मंगलवार को बैठक में नगर आयुक्त गुस्साए पार्षदों को अपने जवाब से संतुष्ट करते रहे।

हॉल में हुई गाली-गलौज, धक्का-मुक्की

जब तक बैठक शुरू होती उससे पूर्व ही हाल परिसर में अच्छा खासा हंगामा हो गया। किसी बात को लेकर पार्षद प्रतिनिधि कृष्णमुरारी अग्रवाल का मेयर के साथ चलने वाले आशीष यादव से विवाद हो गया। विवाद गाली-गलौज और धक्का-मुक्की तक पहुंच गया। इसी दौरान मौके पर पहुंचे थाना उत्तर प्रभारी निरीक्षक सत्यपाल राघव ने दोनों पक्षों को शांत कराया।

सवालों से उड़ी अधिकारियों के चेहरों की हवाइयां

बजट बैठक में पार्षदों के किसी भी सवाल का विभागीय अधिकारी जवाब नहीं दे सके। अधिकारी हर सवालों का एक ही जवाब दे रहे थे कि वह पत्रावली देखकर बताएंगे। जब पत्रावलियों की जानकारी ली गई तो सभी चुप्पी साध गए। सवालों के दौरान अधिकारियों की स्थिति देखने लायक थी।

संसाधन बढ़ाने को लेकर लिए कई निर्णय

सदन में नगर आयुक्त विजय कुमार ने नगर निगम की आय बढ़ाने को कहा तो इस पर सभी ने सहमति जताई। इस पर पार्षदों ने सुझाव दिया कि इसके लिए नगर निगम की दुकानों का किराया बढ़ाने के अलावा मंगल बाजार, चूड़ी बाजार पर टैक्स लगाया जा सकता है। पार्षद ने बताया कि शहर में कई बस्तियां ऐसी हैं जहां नगर निगम किसी भी प्रकार का टैक्स नहीं वसूल कर रहा है।

जेडएसओ का किया विरोध

बैठक में समस्त पार्षदों ने जोनल सेनेट्ररी ऑफीसर दलवीर सिंह का जबर्दस्त विरोध किया तथा उन्होंने एक स्वर में उन्हें तत्काल प्रभाव से हटाने की मांग की।

प्रस्तावों से अलग पार्षदों की मांग

सदन में कुछ ऐसी मांगें थी जिनको प्रस्तावों में शामिल नहीं किया गया था। पार्षदों ने महापौर और नगर आयुक्त से अपने निवास के बाहर अपने नाम के ब्ल्यू साइन बोर्ड, एक कर्मचारी की तैनाती, ऑफिस के लिए फर्नीचर, सीयूजी फोन आदि मुहैया कराने की मांग की।

क्या कहते हैं नगर आयुक्त

नगर आयुक्त विजय कुमार ने बजट बैठक को सफल बताया। उन्होंने कहा है कि बैठक में बजट के अलावा लगभग सभी प्रस्ताव पास करा दिए गए। दो प्रस्तावों को फिलहाल स्थगित कर दिया गया है। इन पर अगली बैठक में चर्चा की जाएगी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Stamped on budget of 464 crores