DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

पौने दो माह पूर्व ही ट्रैक बदलने की भेजी थी डिमांड

फिरोजाबाद में हुए मालगाड़ी हादसे में रेल प्रशासन की ही बड़ी चूक सामने आई है। लूप लाइन के गले होने की जानकारी से अल्ट्रासोनिक इंचार्ज ने लगभग पौने दो माह पूर्व ही अधिकारियों को अवगत कराया था। रेल प्रशासन द्वारा मैटेरियल मुहैया न कराए जाने के कारण ट्रैक को बदला नहीं गया था। मालगाड़ी के हादसा होने से रेल प्रशासन में हड़कंप मचा हुआ है। रेल अधिकारियों ने पांच विभागों के अधिकारियों की टीम को गठित की है, जोकि हर पहलुओं पर जांच कर रही है। अभी तक इस मामले में अल्ट्रासोनिक इंचार्ज आफताब कुरैशी और महमूद आलम की लापरवाही होने की बात सामने आई थी। इसकी अधिकारियों ने जांच भी की है। इस जांच में अधिकारियों ने यह स्वीकार किया है कि अल्ट्रासोनिक इंचार्ज आफताब द्वारा 6 अप्रैल 2018 को इस लूप लाइन का मशीन द्वारा निरीक्षण किया था। जिसमें यह गली हुई पाई गई थी जिसको बदलवाने के लिए इलाहाबाद के अधिकारियों को डिमांड भी लिखित रूप में की गई थी। अब तक नई रेल लाइन मुहैया नहीं हो सकी थी जिसके चलते इंचार्ज एवं उनकी टीम द्वारा रेल के दो ज्वाइंटों को फिश प्लेट की मदद से जोड़कर रखा था।

पहले से टूटा ट्रैक खा रहा था जंग

टूंडला। जिस लूप लाइन पर मालगाड़ी बेपटरी हुई, उस रेल लाइन पर पहले से ही कोई फ्रेक्चर हो चुका था। वहीं रेल लाइन की मियाद भी काफी समय पहले पूरी हो चुकी थी। रेल लाइन के ज्वाइंटों को सुरक्षा की दृष्टि से फिश प्लेट की मदद से रोककर रखा गया था। रेल प्रशासन द्वारा नई रेल लाइन उपलब्ध न कराए जाने की स्थिति में इस लूप लाइन की स्थिति जस की तस बनी हुई थी। वहीं आरपीएफ का पानी भी रेल लाइन के पास जमा होता था। जिसके चलते रेल लाइन में जहां जगह बनी हुई थी। वहां जंग लगती जा रही थी। जबकि रेल लाइन के नीचे का थोड़ा सा हिस्सा एक-दूसरे से जुड़ा हुआ था। जब मालगाड़ी यहां से होकर गुजरी तो वजन के कारण नीचे का हिस्सा भी टूट गया और फिश प्लेट उखड़कर दूर जा गिरी जिससे मालगाड़ी बेपटरी हुई थी।

टीम ने लिखित में दिए बयान

टूंडला। रेल अधिकारियों की टीम ने इसके अलावा अल्ट्रासोनिक इंचार्ज आफताब कुरैशी एवं महमूद आलम के रमजान के माह में पिछले कुछ दिनों से कार्य क्षेत्र में न जाने के मामले की भी जांच की। इसमें उनकी टीम ने अधिकारियों के सामने लिखित तौर पर इंचार्ज द्वारा लगातार कार्य क्षेत्र में मौजूद रहने के बयान दिए हैं।

जांच टीम कर रही पूछताछ: पीआरओ

टूंडला। पीआरओ इलाहाबाद सुनील गुप्ता का कहना है कि कमेटी द्वारा मामले की जांच की जा रही है। जांच टीम अधीनस्थ अधिकारियों एवं कर्मचारियों से पूछताछ कर रही है। जांच पूरी होने पर दोषी के खिलाफ विभागीय कार्रवाई अमल में लाई जाएगी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Only two months ago, the track was sent for demand