DA Image
27 नवंबर, 2020|11:09|IST

अगली स्टोरी

फ्रांस की घटना से मुस्लिम समाज में आक्रोश

default image

फ्रांस की घटना को लेकर शहर के मुसलमानों में आक्रोश व्याप्त हो गया। मामले को लेकर शहर के मौलानाओं ने भारत सरकार के हस्तक्षेप किए जाने की मांग उठाई है।

फ्रांस में हुई इस घटना को लेकर कांच नगरी के मुस्लिम समाज में काफी गुस्सा है। रविवार को शहर के सारे उलेमा हजरात ने इकट्ठे होकर पुलिस एवं प्रशासन के अफसरों से मिले। उन्हें मुस्लिम समाज की भावनाओं से अवगत कराया। इस दौरान उन्होंने सिटी मजिस्ट्रेट कुंवर पंकज व सीओ सिटी हरिमोहन सिंह को एसपी सिटी कार्यालय पर राष्ट्रपति के नाम अपना ज्ञापन सौंपा। प्रतिनिधिमंडल का नेतृत्व एवं मौलाना शफी कासमी, जमीयत उलेमा हिंद के सदर मुफ्ती फारूक ने किया। मौलाना शफी कासमी, मुफ्ती फारूक साहब ने कहा कि जिन लोगों ने हुजूर के कार्टून को बनाकर नबी की शान में गुस्ताखी की, वह ना काबिले बर्दाश्त है। मुफ्ती कासिम, मुफ्ती तनवीर साहब ने कहा कि पैगंबर ए इस्लाम की तोहीन करने पर पूरी दुनिया के अंदर मुसलमानों में दुख, तकलीफ और आक्रोश है। ऐसे लोगों को अल्लाह कभी माफ नहीं करेगा। मौलाना अमीन अख्तर शहर अध्यक्ष जमीयत ने कहा कि आज पूरी दुनिया के साथ फिरोजाबाद के मुसलमानों में भी गम और दुख है। उन्होंने कहा कि हम ऐसे लोगों को जिन्होंने हमारे दिलों को दुखाया है। उनके सामान का बाय काट कर के विरोध प्रकट करेंगे। करबला कमेटी के अध्यक्ष हिकमत उल्लाह खान ने कहा कि धार्मिक गुरुओं की इज्जत और उनका सम्मान हर धर्म सिखाता है। हम सभी के दिलों में बसने वाले शांति मोहब्बत और एकता का पैगाम देने वाले हमारे प्यारे नबी की शान में गुस्ताखी करने वालों की मजम्मत करते हैं। ज्ञापन देने वालों में कारी नईम, मौलाना अकरम मुस्तफा अयूबी, मुफ्ती हुजैफा, मौलाना कासिम रजी, कारी इमामुद्दीन, हाफिज जुबेर, हाफिज अनस, हाफिज अरबाज आदि मौजूद रहे।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Muslim community outraged by the incident in France