DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   उत्तर प्रदेश  ›  फिरोजाबाद  ›  टीबी के साथ एचआईवी की भी जांच जरूरी
फिरोजाबाद

टीबी के साथ एचआईवी की भी जांच जरूरी

हिन्दुस्तान टीम,फिरोजाबादPublished By: Newswrap
Thu, 17 Jun 2021 08:30 PM
टीबी के साथ एचआईवी की भी जांच जरूरी

शासन द्वारा क्षय रोग को लेकर नई गाइड लाइन जारी की है। शासनादेश के अनुसार स्वास्थ्यकर्मियों को अब टीबी के अलावा एचआईवी, डायबिटीज एवं ब्लड प्रेशर की भी जांच करना जरूरी होगा। इसके साथ ही बीमार व्यक्ति के अलावा उसके परिवारजनों की भी जांच आवश्यक होगी ताकि इस रोग को आगे बढ़ने से रोका जाए।

देश को 2025 तक टीबी मुक्त बनाने की केंद्र सरकार द्वारा एक बार फिर से कवायद शुरू कर दी है। इस संदर्भ में शासन द्वारा जारी गाइड लाइन के अनुसार जिला क्षय रोग नियंत्रण केंद्र को नए निर्देश जारी किए गए हैं। स्वास्थ्य विभाग से मिली जानकारी के अनुसार स्वास्थ्यकर्मी जिस समय किसी व्यक्ति की टीबी की जांच करते हैं उस समय उनकी एचआईवी, डायबिटीज के साथ-साथ ब्लड प्रेशर की जांच की जाए क्योंकि सभी का एक दूसरे से गहरा नाता है। इसके अलावा जिस घर में कोई व्यक्ति टीबी रोग से ग्रस्त पाया जाता है तो उसके पूरे परिवार की भी जांच की जाए। इस तरह की सावधानी बरतने से क्षय रोग को आगे बढ़ने से रोका जा सकता है।

घर-घर जाकर लें मरीजों का हाल

गाइडलाइन के अनुसार स्वास्थ्यकर्मियों को निर्देश दिए गए हैं कि वह घर-घर जाकर मरीजों के बारे में पूरी जानकारी हासिल करें। मरीज समय पर दवा ले रहा है या नहीं, उसे शासन द्वारा प्रदत्त पोषण धनराशि पांच सौ रुपये प्रतिमाह मिल रहे हैं या नहीं। इसके साथ ही टीबीग्रस्त व्यक्ति के आहार के संबंध में भी जानकारी हासिल करें।

भ्रमण के दौरान लोगों को करें जागरूक

जिला क्षय रोग नियंत्रण केंद्र के कर्मचारी अपने क्षेत्र में भ्रमण करते हुए लोगों को क्षय रोग से संबंधित पूरी जानकारी दें। उन्हें लक्षण एवं बचाव के प्रति जागरूक करें। उन्होंने कहा कि टीबी के छह प्रमुख लक्षण हैं जिनमें हर समय बुखार रहना, छाती में दर्द, बलगम में खून आना, भूख न लगना, नींद न आना तथा कमजोरी महसूस होना। इस तरह के लक्षण होने पर तत्काल मरीज को चिकित्सक के पास ले जाना चाहिए।

संबंधित खबरें