अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

शिकोहाबाद में घर में शौचालय नहीं बनने से नाराज छात्रा फंदे पर झूली

शिकोहाबाद के शिवनगर में घर में शौचालय न होने से नाराज कक्षा 11 की छात्रा ने फांसी लगाकर अपनी जान दे दी। घटना से कुछ देर पहले ही छात्रा का अपनी मां से इसी बात पर विवाद भी हुआ था। शव पोस्टमॉर्टम के लिए भेज दिया गया है। एसपी देहात ने भी इस घटना की पुष्टि की है।

हेमा यादव (16) पुत्री अवनीश यादव निवासी गढ़सान हाल निवासी रहचटी शिवनगर आरपी पब्लिक स्कूल में कक्षा 11 की छात्रा थी। उसके घर में शौचालय नहीं होने के चलते काफी परेशान रहती थी। उसने कई बार परिजनों से घर में शौचालय बनवाने की गुहार लगाई लेकिन आर्थिक मजबूरी के चलते परिजन शौचालय नहीं बना सके। छात्रा और घर परिवार को खुले में ही शौच के लिए जाना पड़ता था।

बुधवार को घर में इसी बात पर विवाद के बाद छात्रा ने घर के दरवाजे बंद कर टट्टर की एंगिल में साड़ी का फंदा बनाकर उससे फांसी लगा ली। कुछ देर में छात्रा की मौत हो गई। जब उसकी मां शौच से लौटकर आई तो उसने दरवाजा खोलने के लिए आवाज लगाई लेकिन अंदर से कोई आवाज न सुनकर पड़ोसियों की सहायता से किसी तरह से गेट को अंदर से खुलवाया। छात्रा को फंदे पर लटका देखकर वह वह दहाड़े मारने लगी। सूचना पर पहुंची पुलिस ने शव को उतारकर पोस्टमार्टम के लिए जिला अस्पताल के लिए भेज दिया। पिता आगरा में निजी कंपनी में सुरक्षा गार्ड हैं। उन्हें सूचना दे दी गई थी।

बारिश से भरा पानी, मां से हुआ झगड़ा

कुछ समय से लगातार बरसात के चलते आसपास के इलाके में पानी भरा हुआ है। इसके बाद शौच के लिए जाना और दूभर हो गया था। उसे दूर स्थित खेतों में जाना पड़ता था। वो अपने को असुरक्षित महसूस करती थी। उसने इस बात की शिकायत भी घरवालों से की थी। बुधवार को घटना से कुछ देर पहले छात्रा का अपनी मां मंजू देवी से शौचालय को लेकर विवाद भी हुआ था उसके बाद छात्रा की मां शौच के लिए चली गई और छात्रा ने आत्मघाती कदम उठा लिया।

शौचालय नहीं होने पर लगाई फांसी:एसपी देहात

इस बारे में एसपी ग्रामीण महेन्द्र सिंह का कहना है कि छात्रा घर में शौचालय नहीं होने से नाराज थी। वो लगातार घरवालों से इसे बनवाने के लिए कह रही थी। नहीं बनने पर उसने आत्महत्या कर ली है। शव को पोस्टमॉर्टम के लिए जिला अस्पताल भेज दिया गया है।

घर शहरी क्षेत्र में है

शिकोहाबाद। छात्रा का घर शहरी क्षेत्र में पड़ता है। दूसरों के घरों में शौचालय था, लेकिन उसके घर में न होने से वो और परेशान थी। इस बात पर वह अकसर घरवालों से झगड़ती थी। उसके चचेरे भाई सोनू ने बताया कि वो शर्म के चलते कई बार दो-तीन दिन तक बाहर नहीं जाती थी। बीमार हो जाने की स्थिति में उसे जाना ही पड़ता था।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Girl student of class 11 commit suicide for toilet in Firozabad