DA Image
28 नवंबर, 2020|12:56|IST

अगली स्टोरी

जीत का स्वाद चखने को हर कोई दिख रहा बेताब

default image

चुनावी समर में इस बार हर कोई जीत पाने के लिए कोई कोर कसर नहीं छोड़ना चाहता है। यही कारण है कि मतदाताओं की देहरी तक पहुंचकर उनके दर्शन का लाभ लिया जा रहा है। प्रचार के अंतिम दिन सभी ने अपनी ताकत झौंक दी। अपने तरीके से मतदाताओं को लुभाने में जुटे रहे।

भाजपा के खाते में दो बार आ चुकी सीट

टूंडला विस पर भाजपा दो बार ही अपनी जीत दर्ज कर पाई है। पहली बार वर्ष 1996 में भाजपा के शिव सिंह चक ने इस सीट को 46541 मतों से जीता था। तब उन्होंने बसपा के नवनेश वरुण को हराया था। बसपा को उस समय 43852 मत मिले थे। इसके बाद वर्ष 2017 में भाजपा के एसपी सिंह बघेल ने जीत दर्ज की। उन्होंने रिकार्ड 1,18,584 मत हासिल किए थे। उन्होंने बसपा के राकेश बाबू को हराया था। बसपा को 62,514 मत मिले थे।

सपा ने दो बार सीट को जीता

समाजवादी पार्टी भी टूंडला विस में दो बार ही जीत का स्वाद चख पाई है। सपा के मोहन देव शंखवार ने वर्ष 2002 में 44703 मतों के साथ जीत दर्ज की थी। तब उन्होंने भाजपा के राम बहादुर चक को हराया था। चक ने 39952 मत पाए थे। इससे पहले 1993 में सपा के रमेश चंद्र चंचल 45465 मतों के साथ विजयी हुए थे। उन्होंने भाजपा के राम बहादुर चक को हराया था। चक ने 41639 मत प्राप्त किए थे।

बसपा नहीं बना पाई थी सीट पर हैट्रिक

बहुजन समाज पार्टी टूंडला में दो बार हाथी की सवारी कर चुकी है। दोनों ही बार बसपा के राकेश बाबू विजयी रहे। तीसरी बार भी मैदान में हैट्रिक बनाने को उतरे लेकिन हार गए। वर्ष 2012 में राकेश बाबू ने 67949 मत हासिल किए थे। दूसरे नंबर पर रहे सपा के अखलेश कुमार ने 60003 मत पाए थे। इसी तरह वर्ष 2007 में बसपा के राकेश बाबू ने जीत दर्ज की थी। उस समय राकेश बाबू ने 50002 मत पाए थे। दूसरे नंबर पर रहे भाजपा के शिव सिंह चक को 28178 मत मिले थे।

तीन को भाग्य ईवीएम में होगा बंद

टूंडला उपचुनाव को लेकर लगातार प्रत्याशियों द्वारा प्रचार किया गया। भाजपा के सीएम योगी आदित्यनाथ, डिप्टी सीएम दिनेश शर्मा और केशव प्रसाद मौर्या के अलावा प्रभारी मंत्री मोती सिंह समेत तमाम सांसद, विधायकों और मंत्रियों ने पूरी ताक झौंक दी है। सपा और बसपा के वरिष्ठ नेता भी लगातार जनसभाएं करते रहे। अब तीन नवम्बर को सभी प्रत्याशियों का भाग्य मतदान के साथ ही ईवीएम में कैद हो जाएगा।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Everyone is desperate to taste the victory