DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

हर्ष फायरिंग में मौत पर आरोपी को दस साल की सजा

एक तिलक समारोह में हर्ष फायरिंग के दौरान गोली लगने से हुई एक व्यक्ति की मौत के मामले में अपर जिला एवं सत्र न्यायाधीश कोर्ट नंबर पांच नित्यानंद श्रीनेत की अदालत ने फैसला सुनाया है। अदालत ने आरोपी को दस साल की सजा और 15 हजार रुपए जुर्माना अदा करने का आदेश दिया है। अर्थदंड नहीं जमा करने पर आरोपी को अतिरिक्त सजा काटनी होगी।

सोलह साल पहले खागा कोतवाली क्षेत्र के नंदा का पुरवा मजरे कूरा गांव निवासी गजोधर के बेटे का तिलक समारोह था। 29 अप्रैल 2002 को शाम पहर तिलक समारोह चल रहा था, तभी गांव के अरविंद लोहार पुत्र बुधनी तमंचे से फायरिंग करने लगा। तभी एक गोली करीब खड़े चंद्रपाल लोधी के जबड़े में लगी, जिससे वह गंभीर हालत में घायल हो गया। जहां से उसे सीएचसी हरदों ले गए जहां उसे मृत घोषित किया गया। चंद्रपाल के बेटा ठाकुर प्रसाद ने अरविंद के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराया था। पुलिस ने आरोपी को जेल भेजते हुए उसके खिलाफ अदालत में आरोप पत्र दाखिल किया। मुकदमे की सुनवाई के दौरान कई गवाहों ने बयान दर्ज कराया, जिस पर शासकीय अधिवक्ता जयपाल वर्मा और बचाव पक्ष के वकील ने जिरह कर अपनी दलीलें पेंश की। अदालत ने प्रस्तुत किए गए साक्ष्य, गवाहों के बयान और शासकीय अधिवक्ता की दलीलों के आधार पर आरोपी को घटना का दोषी पाया। कोर्ट ने बुधवार को आरोपी को दस साल की सजा व 15 हजार रुपए अर्थदंड जमा करने का आदेश दिया।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Ten years in jail for killing Harsh firing