DA Image
4 जून, 2020|4:58|IST

अगली स्टोरी

दुष्कर्म में अधेड़ को दस साल की सजा

दुष्कर्म में अधेड़ को दस साल की सजा

फास्ट ट्रैक कोर्ट प्रथम मनराज सिंह की अदालत ने बुधवार को दुष्कर्म के एक मामले में फैसला सुनाया है। कोर्ट ने आरोपी को दस साल की सजा और 25 हजार रुपए जुर्माना अदा करने का आदेश दिया है। अर्थदंड अदा न करने पर आरोपी को एक साल की अतिरिक्त सजा काटनी होगी।

गाजीपुर थाना क्षेत्र के एक गांव में 11 अप्रैल 2014 को एक विधवा अपने घर में अकेली थी। तभी शराब के नशे की हालत में महिला का रिश्तेदार उसके घर आया और बल पूर्वक दुष्कर्म किया। महिला ने पुलिस से मामले की शिकायत की लेकिन मुकदमा दर्ज नहीं किया। महिला ने अदालत का दरवाजा खटखटाया। अदालत के आदेश पर महिला के रिश्तेदार शिवबाबू के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया था। पुलिस ने आरोपी के खिलाफ अदालत में आरोप पत्र दाखिल किया था।

सुनवाई के दौरान गवाहों ने बयान दर्ज कराया था,आरोपी ने विधवा के साथ पहले भी बदसलूकी की थी लेकिन सामाजिक दबाव के कारण मामला पुलिस तक नहीं पहुंचा था। शासकीय अधिवक्ता सहदेव गुप्ता व अजय पटेल व बचाव पक्ष के अधिवक्ता ने गवाहों के बयान पर जिरह करते हुए अपनी दलीलें पेश की। अदालत ने प्रस्तुत किए गए साक्ष्यों, गवाहों के बयान और अधिवक्ताओं की दलीलों के आधार पर आरोपी को घटना का दोषी पाया और बुधवार को सजा सुनाते हुए उसे जेल भेज दिया।