DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

जवाबी फाग में बही रंगों की बयार

जवाबी फाग में बही रंगों की बयार

अमौली क्षेत्र के बुढ़वा गांव में लक्ष्मी नारायण मंदिर में परमार्थ प्रेरणा समिति के तत्वावधान में बरसाने की तर्ज पर महिलाओं पुरुषों ने मिलकर रंग गुलाल के साथ फागोत्सव में सामाजिक समरसता की मिसाल पेश किया। फाग प्रतियोगिता में पुरुषों को जबरजस्त टक्कर देते हुए महिलाएं एक नंबर से पीछे रह गईं। विजेता व उप विजेता टीम को पुरस्कृत किया गया।

15 वर्षो से अनवरत चल रही महिला पुरुष फाग प्रतियोगिता में इस वर्ष भी ग्रामीणों ने ठण्डाई की तरंग में डूबकर अबीर गुलाल के साथ भरपूर आनन्द उठाया। पुरुषों ने प्रतियोगिता की शुरूआत करते हुए रघुनंदन पार लगाओ हमारी नैया फंसी भव सागर मा। फाग सुनाया जिसका जवाब देते हुए महिलाओ ने करम न करियो, करो है देखत ऊपर वालो..। प्रस्तुत किया। जग मंे होनहार बलवान इसे कोई मत मानो झूठी, के पुरुषो के जवाब में महिलाओं ने नाव में नदिया डूबी जाय, नाव में नदिया डूबी जाय गाकर सबको झूमने पर मजबूर कर दिया। प्रतियेागिता में संगीत की धुन मंे एक नंबर कट जाने से महिलाएं पिछड़ गईं। इस प्रकार 20 में से 19 नम्बर पुरुषों को तथा 18 नम्बर महिलाओं को मिले। पुरुषों की टीम को प्रेम चन्द्र शुक्ल व अजय शुक्ल ने तथा उप विजेता महिला टीम को गीतांजलि व सोनिका शुक्ल ने पुरस्कृत किया। इस मौके पर रामदास सचान, जगदीश पाण्डेय, सोमदत्त पाण्डेय, राकेश यादव, रामरतन रानू मास्टर, अर्यन दुबे, सत्यम, रेखा रानी, संतोषी, श्रीदेवी सहित तमाम ग्रामीण उपस्थित रहे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: Presenting the example of social harmony