DA Image
23 सितम्बर, 2020|5:05|IST

अगली स्टोरी

बिजली आपूर्ति के मुद्दे में गरजी भाकियू, जिम्मेदारों को चेताया

बिजली आपूर्ति के मुद्दे में गरजी भाकियू, जिम्मेदारों को चेताया

विद्युत आपूर्ति से चिंतित किसान धान की फसलों में पर्याप्त मात्रा में सिंचाई नहीं कर पा रहे हैं। घंटे भर की आपूर्ति से सिंचाई करना असम्भव हो गया है। यदि 24 घंटे के अंदर 24 घंटे आपूर्ति बहाल नहीं हुई तो किसान सड़कों पर उतरने पर विवश होगा। भाकियू की पंचायत में सैकड़ों की संख्या में किसान पहुंचे। सुरक्षा की दृष्टि से मौके पर पुलिस फोर्स भी तैनात रहा।

नगर के ललौली रोड में फरीदपुर मोड के पास स्थित सहकारी समिति परिसर भारतीय किसान यूनियन की पंचायत बैठी। जिसमें क्षेत्र के तमाम गांवों से किसानों ने हिस्सा लिया और अपनी समस्याओ का बखान किया। पंचायत में मुख्य रूप से पहुंचे राष्ट्रीय उपाध्यक्ष राजेश सिंह चौहान ने मनमाने रवैएं से की जा रही विद्युत आपूर्ति पर जमकर नाराजगी जाहिर की। उन्होंने कहा कि धान की फसल खेतो में लहलहा रही है और मात्र तीन से चार घंटे की आपूर्ति से फसलों को पर्याप्त पानी नहीं मिल पा रहा है। ऐसे में आपूर्ति सही ढ़ग से ना होने पर किसानों की फसलें बर्बादी की कगार पर पहुंच चुकी है। उन्होंने मांग किया कि डबल ग्रुप में 24 घंटे आपूर्ति की जाएं। साथ ही जर्जर पोलो व जर्जर तारों को बदलवाया जाएं। जिससे ओवरलोडिंग की समस्या भी समाप्त हो सके। चेतावनी दी कि 24 घंटे के भीतर आपूर्ति 24 घंटे नहीं हुई तो किसान शांत बैठने वाला नहीं है। जिस पर मौके पर मौजूद विद्युत विभाग के एक्सईएन आरएन सिंह ने किसानों की मांग पूरी करने का आश्वासन दिया है। आश्वासन मिलने के बाद किसानों ने अपनी पंचायत समाप्त की। इस मौके पर एसडीएम आशीष कुमार के अलावा भाकियू जिलाध्यक्ष राजकुमार सिंह गौतम, जिला उपाध्यक्ष राजेन्द्र सिंह, जिला सचिव सदर प्रीतम सिंह के अलावा सुरेन्द्र सिंह, सुरेन्द्र सिंह, तहसील अध्यक्ष दीपक गुप्ता, प्रयागराज मण्डल अध्यक्ष देवनारायण पटेल, मलवा ब्लॉक अध्यक्ष नवल सिंह पटेल, तहसील अध्यक्ष रामसहाय पटेल, अशोक उत्तम, सज्जन सिंह, दिनेश पटेल कार्यकर्ता व किसान मौजूद रहे। भाकियू की पंचायत में व्यवस्था बनाए रखने के लिए भारी पुलिस बल भी मौजूद रहा।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Garji Bakiu in power supply issue warns responsibilities