ट्रेंडिंग न्यूज़

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ उत्तर प्रदेश फतेहपुरकोयला लेकर हरदुआगंज जा रही मालगाड़ी में आग

कोयला लेकर हरदुआगंज जा रही मालगाड़ी में आग

अप लाइन में कोयला मालगाड़ी की एक बोगी में आग लगने की सूचना पर रेल कर्मियों में अफरा तफरी मच गई। सूचना पर फजुल्लापुर रेलवे स्टेशमें रोक कर दमकल विभाग में आग बुझाई। जिसके बाद करीब ढ़ाई घंटे तक खड़ी...

कोयला लेकर हरदुआगंज जा रही मालगाड़ी में आग
Newswrapहिन्दुस्तान टीम,फतेहपुरFri, 04 Sep 2020 08:56 PM
ऐप पर पढ़ें

अप लाइन में कोयला मालगाड़ी की एक बोगी में आग लगने की सूचना पर रेल कर्मियों में अफरा तफरी मच गई। सूचना पर फजुल्लापुर रेलवे स्टेशमें रोक कर दमकल विभाग में आग बुझाई। जिसके बाद करीब ढ़ाई घंटे तक खड़ी रही। इस दौरान ओएचई सप्लाई ब्रेक होने से पीछे के स्टेशनों में कई ट्रेने खड़ी रही।

शुक्रवार को कोयला लादकर अप लाइन से हरदुआगंज जा रही मालगाड़ी में धुआं उठता देखकर रसूलाबाद के एसएम द्वारा फैजुल्लापुर में ड्यूटी पर मौजूद स्टेशन मास्टर को जानकारी दी गई। जिसके बाद मालगाड़ी को 6:28 बजे प्लेटफार्म नंबर तीन पर रोके जाने के बाद रेल कर्मियों ने धुआं उठने वाले कोच में पानी डालना शुरु कर दिया। इसके साथ ही फायर बिग्रेड को मामले की जानकारी दी गई। टीआई संदीप कुमार सिंह ने बताया कि फायर बिग्रेड की गाड़ी 7:40 बजे पहुंच गई। जिसके बाद 8:20 बजे ओएचई की सप्लाई बंद करवा दी गई। जिसके बाद दमकल कर्मियों ने आग बुझाने के प्रयास शुरु कर दिए तथा 8:20 बजे जब धुआं उठना बंद हो गया तब सभी ने राहत की सांस ली। जिसके बाद 8:45 बजे ओएचई की सप्लाई बहाल करा दी गई। हालांकि इस दौरान ट्रेन करीब ढ़ाई घंटे बाद रवाना हो सकी, साथ ही ट्रैक सुचारू हो सका। यदि गाड़ी में उठ रहे धुएं को समय पर देखकर उसे न बुझाया जाता तो बड़ा हादसा होने से इंकार नहीं किया जा सकता था। उधर मामले की सूचना मिलने के बाद पोस्ट कमाण्डर आरपीएफ प्रवीण सिंह, थानाध्यक्ष जीआरपी अरविंद कुमार सरोज सहित सिविल पुलिस के जवान व एसएसई ओएचई देवेंद्र कुमार घटना स्थल पर पहुंचे जहां राहत कार्य शुरु कर दिया गया।

ब्रेक वाहन से 32वें रैक में उठ रहा था धुआं

बताते है कि मालगाड़ी के ब्रेक वाहन से 32 वें वैगन नं0 एसईसीआर 22141618210 में धुआं उठ रहा था। जिसको देखकर सभी के होश उड़ गए, आनन फानन आग पर काबू पाने के प्रयास शुरू कर दिए गए। धुआं उठना बंद होने के बाद मालगाड़ी के चालक उपेंद्र कुमार व गार्ड अमित राय द्वितीय द्वारा करीब 9:06 बजे गाड़ी को लेकर गंतव्य के लिए रवाना हो गए।

ये हो सकता है आग लगने का कारण

जानकारों की मानें तो ट्रेन के पहिए में हार्ड एक्सेल(ब्रेक शू का जाम होना) होने पर उसमें चिंगारी उठने के चलते भी आग लग सकती है। इसके साथ ही यदि कोई पार्ट्स लटकता है तो उसमें भी चिंगारी उत्पन्न होती है, जिससे पहिए के मध्य में लगी ग्रीस का छिडकाव(गिरने) होने लगता है जिसके बाद उस स्थान से सफेद रंग का धुआं उठना शुरु हो जाता है तथा आग लगने के अवसर बढ़ जाते है।

लापरवाही तो नहीं धुआं निकलने का कारण

विभागीय कर्मियों के बीच दबी जुबान चर्चा रही कि यदि कोयला लदी ट्रेन कहीं आउटर या संनाटे वाले स्थान पर रुक जाती है। तो उसमें से कोयला चुराने वाले लोग वैगन के ऊपर चढ़ जाते है जो कोयला फेंकना शुरु कर देते है। अनुमान लगाया कि कोयला चुराने के लिए चढ़े किसी के द्वारा उसमें जलती बीड़ी या सिगरेट को छोड़ दिया गया होगा जिससे धीरे-धीरे कोयले ने आग पकड़ना शुरु कर दिया होगा।

epaper