DA Image
20 जनवरी, 2021|3:10|IST

अगली स्टोरी

नए साल के जश्न में डूबा दोआबा

नए साल के जश्न में डूबा दोआबा

फतेहपुर। निज संवाददाता

कोरोना संकट के बीच सर्दी को मात दे वर्ष की अंतिम 31 दिसम्बर की रात और नए साल का दोआबा के युवाओं ने जमकर लुत्फ उठाया। आधी रात में जहां वर्ष 2020 को बॉय-बॉय किया गया वहीं 2021 का तहेदिल से स्वागत हुआ। शहर में जगह जगह रात के 12 बजते ही आतिशबाजी के बीच नए साल का इस्तकबाल हुआ। युवाओं ने खूब जश्न मनाया। सार्वजनिक आयोजनों में रोक के बाद भी शुक्रवार की सुबह लोग मंदिरों में पहुंच कर पूजा अर्चना किया और नूतन वर्ष मंगलमय होने की कामना की। बच्चे पार्को में पहुंच कर मस्ती की तो युवक एवं युवतियों की टोलियां सेल्फी लेते हुए नूतन वर्ष के पहले दिन को यादगार बनाते दिखाई दिए। किसी तरह की कोई अप्रिय घटना न हो, पुलिस-प्रशासन भी अलर्ट दिखाई दिया।

रात के 12 बजते ही हुई आतिशबाजी

नए साल का युवाओं को बेसब्री से इंतजार रहता है। इसकी वजह यह है कि उन्हें जी भरकर मौज-मस्ती करने का मौका मिलता है। नए वर्ष पर शुक्रवार को युवाओं ने जिले के चुनिंदा होटलों, ढाबों और रेस्टोरेंट में पार्टी हॉल की बुकिंग पहले से ही कर रखी थी। कुछ बिना हॉल बुक किए आम तरीके से ही दोस्तों संग बैठ कर डिनर आदि करते रहे। जिले के अन्य कस्बों में युवकों ने खाने पीने का के साथ डीजे का भी इंतजाम कर रखा था। 12 बजते ही पटाखे दागकर नए साल का स्वागत किया गया। वहीं सुबह लोगों ने अपने अपने अंदाज में पहला दिन मनाया। किसी ने सुबह माता पिता के चरण स्पर्श कर आर्शीवाद लिया तो किसी ने मंदिर में जाकर देवदर्शन किया।

मंदिरों में हुई पूजा-अर्चना को उमड़ी भीड़

नए वर्ष के पहले दिन लोगों ने नए साल पर देवी-देवताओं का दर्शन किया। साल के पहले दिन लोग घरों में भी पूजा अर्चना किया। मंदिरों में खासी भीड़ देखी गई। घर परिवार के समृद्धि के लिए लोगों ने मंदिर में माथा टेका और वर्ष 2021 खुशियों भरा हो इसके लिए प्रार्थना की। सुबह से लेकर शाम पहर तक मंदिरों में लोगों का आना जाना लगा रहा। शहर के ताम्बेश्वर मंदिर में सुबह से ही आस्थावानों का तांता दिखाई दिया। हालांकि कोरोना काल को देखते हुए मंदिर के गर्भगृह तक जाने को किसी को इजाजत नहीं थी। बाहर से ही लोग पूजा अर्चना कर नया वर्ष मंगलमय होने की कामना की। इसी तरह से शहर के अन्य मंदिरों में भी पूजा अर्चना के लिए लोग पहुंचे।

फूलों के साथ दी गई बधाई

कोविड काल में इस नूतन वर्ष की बधाई देने के लिए लोग अपने अपने अंदाज का प्रयोग किया। हाथ मिलाने एवं गले मिलने से परहेज करते हुए कोई फूल देकर बधाईयां दी को हाथ हिलाकर अभिवादन किया। नये वर्ष में शहर के शादीपुर रेलवे क्रासिंग, पटेल नगर, ताम्बेश्वर मंदिर चौराहा, चौक आदि स्थानों में फूल की दुकानों में खासी भीड़ रही। फूल विक्रेताओं ने भी नए साल पर फूलों की जमकर बिक्री की। वहीं दो दिन पहले से ही नूतन वर्ष की बधाई देने का सिलसिला सोशल मीडिया चलता रहा।

पार्को में बच्चों की मस्ती देखते बनी

कोविड काल में छोटे बच्चों के लिए बंद चल रहे विद्यालय एवं नूतन वर्ष मनाने का जोश बच्चों को घर से बाहर पार्को तक खींच लाया। बिना किसी रोकटोक के बच्चे गुनगुनी धूप के साथ झूला, क्रिकेट आदि खेल कर पूरे दिन मस्ती करते नजर आए। शहर के हिकमत उल्ला पार्क, डीएम आवास के सामने समेत अन्य पार्को में बच्चों की चहल कदमी देखने को मिली। बच्चों ने भी अपने अंदाज में दोस्तों को बधाई दी।

सेल्फी का चला दौर

नूतन वर्ष में खासकर बच्चों एवं युवक युवतियों में गजब का उत्साह देखा गया। नए वर्ष पर निकली धूप के बीच नए वर्ष का आनंद और बढ़ गया। नई नई पोशाक पहन कर पार्को में पहुंचे और अपने हमजोलियों के साथ जमकर मस्ती की। साथ ही दोस्तों के साथ सेल्फी लेना नहीं भूले। जिधर देखों बच्चे सेल्फी लेते हुए नए वर्ष 2021 के पहले दिन को यादगार बनाने में मशगूल नजर आए।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Doaba drowns in New Year celebration