Do not get stuck in jam action plan - जाम में फंसी जान, नहीं बना एक्शन प्लान DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

जाम में फंसी जान, नहीं बना एक्शन प्लान

नगर में ट्रैफिक जाम अब रोज की बात हो गई है। जाम में जाल में फंसी लोग इससे निकलने को तड़पते रहते हैं लेकिन जिम्मेदारों के पास इससे निजात के लिए कोई एक्शन प्लान नहीं है। लोगों को उनके हालातों पर छोड़ दिया गया है। रेलवे ओवर ब्रिज की शुरूआत के बाद हालात अपेक्षाकृत और अधिक बिगड़ गए हैं। दिन में हैवी वाहनों का प्रवेश इस मुसीबत को और अधिक उर्वर कर रहा है।

नगर में रेलवे ओवर ब्रिज की शुरूआत के बाद जहां एक ओर लोगों को अब रेलवे क्रासिंग पर घंटों इंतजार से राहत मिल गई है तो वहीं दूसरी ओर उन्हें अब जाम से निजात नहीं मिलती दिख रही है। आरओबी खुशी और गम दोनों एक साथ लेकर आया है। आरओबी के संचालन से पूर्व रेलवे क्रासिंग बंद होने की स्थिति में दूसरी ओर से नगर में वाहनों का प्रवेश नहीं हो पाता था। इसके चलते जल्द ही सड़कों से ट्रैफिक लोड खत्म हो जाता था। अब आरओबी संचालित होने के बाद वाहनों की लगातार आवाजाही ने यातायात लोड को बढ़ा दिया है। किशनपुर रोड और जीटी रोड जैसे प्रमुख मार्गों में वाहनों की कतार लोगों को परेशन करने लगी है। आए दिन लगने वाले जाम से निजात पाने के लिए लोग पुलिस व प्रशासनिक अधिकारियों की ओर ताक रहे हैं लेकिन जिम्मेदारों की ओर से अब तक कोई एक्शन प्लान नहीं बनाया गया है। खाकी पूरी तरह से इस गंभीर मामले को लेकर उदासीन है। एम्बुलेन्स व बच्चों के फंसने के बावजूद खाकी ने नगर को जाम मुक्त कराने के लिए मुकम्मल योजना नहीं बनाई है।

प्रमुख मार्गों पर अतिक्रमण का राज

नगर के दोनो प्रमुख मार्गों जीटी रोड व किशनपुर रोड में सड़क से सटकर खड़े होने वाली ठेलिया एवं खोमचे वाले भी ट्रैफिक व्यवस्था को बदहाल करने में योगदान दे रहे हैं। दोनो ही सड़कों पर दोनो पटरियों पर सब्जी की फुटकर दुकानें लगाई जाती हैं। इससे भी यातायात प्रभावित हो रहा है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: Do not get stuck in jam action plan