अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

टूटी पुलिया से बढ़ गई दो किलोमीटर की दूरी

टूटी पुलिया से बढ़ गई दो किलोमीटर की दूरी

राह सुगम बनाने के नाम पर खर्च हो रहे रुपये पानी में बहते नजर आ रहे हैं। धांधली से न केवल विकास के मायने बदल रहे हैं बल्कि जनता को सहुलियत के बजाय दुश्वारियां उठानी पड़ रही हैं। छह महीने पहले भैरमपुर रोड में बनी पुलिया टूट गई थी। जिससे यह राह चलने वालों को अब दो किलोमीटर की अतिरिक्त मंजिल तलाशनी पड़ रही है। यह वही पुलिया है, जिसका पिछले वित्तीय वर्ष में निर्माण कराया गया था। अंधेरगर्दी का आलम कुछ यह रहा कि जिस मद से यह पुलिया बनी है, उसी से सड़क का अधूरा निर्माण कराया गया है।

क्षेत्र पंचायत से भैरमपुर से करनपुर तक मिट्टी पुराई के साथ पुलिया निर्माण कराने को चार लाख 60 हजार रुपये की कार्ययोजना बनी थी। शासन से पहली किश्त के रूप में स्वीकृत दो लाख 32 हजार 748 रुपये जारी होने पर कार्यदाई संस्था ने पुलिया का निर्माण करा दिया। यह पुलिया बमुश्किल आठ महीने पहले ही बनकर तैयार हुई थी। जिससे इस रोड पर चलने वालों की मंजिल आसान हो गई थी क्योंकि उन्हें अब नाला हिल कर नहीं गुजरना होता था। हालांकि राह सुगमता काफी दिन साथ नहीं रही। छह महीने पहले यह पुलिया क्षतिग्रस्त हो गई थी। जिसके बाद से इस रोड से निकलना लगभग बंद हो चुका है। इससे बकेवर जाने के लिए जवाहरपुर और बिजुरी गांव होते हुए बकेवर मिलता है। भैरमपुर के राम कुमार, अशोक, राजू कहते हैं कि पुलिया सही होने के दौरान भैरमपुर से सीधे बकेवर आना जाना होता था। पुलिया टूट जाने से ट्रैक्टर और चार पहिया निकालना मुमकिन नहीं। बीडीओ उषा श्रीवास्तव का कहना है कि उन्हें पुलिया टूटी होने की जानकारी नहीं है। जांच कराकर पुलिया सही कराने के साथ मिट्टी पुराई का काम चालू कराया जाएगा।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: Distance from the broken bridge to two kilometers