DA Image
Saturday, November 27, 2021
हमें फॉलो करें :

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ उत्तर प्रदेश फतेहपुरचांद का दीदार कर सुहागिनों ने मांगी पति की दीर्घायु

चांद का दीदार कर सुहागिनों ने मांगी पति की दीर्घायु

हिन्दुस्तान टीम,फतेहपुरNewswrap
Sun, 24 Oct 2021 11:35 PM
फतेहपुर। संवाददाता
 
 सुहागिनों के लिए खास करवा चौथ का पर्व रविवार को...
1/ 2फतेहपुर। संवाददाता सुहागिनों के लिए खास करवा चौथ का पर्व रविवार को...
फतेहपुर। संवाददाता
 
 सुहागिनों के लिए खास करवा चौथ का पर्व रविवार को...
2/ 2फतेहपुर। संवाददाता सुहागिनों के लिए खास करवा चौथ का पर्व रविवार को...

फतेहपुर। संवाददाता

सुहागिनों के लिए खास करवा चौथ का पर्व रविवार को सुहागिनों ने हर्षोल्लास के साथ मनाया। भोर पहर उठकर उन्होंने व्रत रखा और दिनभर पूजा की तैयारियों में जुटी रहीं। देर शाम सोलह श्रंगार कर सुहागिनों ने चलनी से चांद का दीदार कर पति की दीर्घायु की कामना की। वहीं पतियों ने भी सुहागिनों को पानी पिलाकर उनका व्रत तोड़वाया और तोहफा भी दिया।

प्रत्येक वर्ष कार्तिक मास की कृष्ण पक्ष की चतुर्थी को करवा चौथ का पर्व मनाया जाता है। रविवार को भोर सुबह उठकर महिलाओं ने व्रत रखा और दिन भर कथाओं का दौर चलता रहा। इसके अलावा सुहागिन महिलाएं पूजा की तैयारियों में जुटी रहीं और सबसे सुंदर दिखने को लेकर उन्होंने सोलह श्रंगार किया। शाम होते ही महिलाएं चांद का दीदार करने को बेताब रहीं। चांद निकलते ही उन्होंने अपने मकान की छतों पर पहुंच चलनी से चांद का दीदार किया और भगवान शिव, पार्वती व श्री गणेश की विधिवत पूजा अर्चना की। उन्होंने पतियों की लंबी उम्र व सुखद जीवन की भी भगवान से कामना की। इसके बाद पतियों ने सुहागिनों को पानी पिलाकर उनका व्रत तुड़वाया और उपहार स्वरूप उन्हें कुछ न कुछ तोहफा दिया। जिसे पाकर वह बेहद खुश दिखीं। करवा चौथ पर्व को लेकर सुहागिनों में खासी उत्सुकता रही। एक वर्ष में एक बार आने वाले इस करवा चौथ को लेकर महिलाओं में गजब का उत्साह देखा गया।

जिला कारागार प्रशासन ने की व्यवस्था

जिला कारागार में बंद सुहागिनों के लिए करवा चौथ पर्व के लिए कारागार प्रशासन ने पूरी व्यवस्था दी। महिलाओं को पूजन की सारी सामग्री के साथ साथ चीनी दूध की व्यवस्था उपलब्ध कराई। जेल अधीक्षक मो. अकरम ने बताया कि कारागार में कुल 26 सुहागिन बंदी महिलाओं ने व्रत रखा। जिसमें 24 ऐसी महिलाएं रहीं जिनके पति भी कारागार में बंदी हैं। उन सभी को पूजा के समय पतियों के दीदार कराया गया है। व्रती महिलाओं ने देर शाम चांद निकलने के बाद पूजा अर्चना की। इसके लिए जेल प्रशासन ने व्रतधारी महिलाओं के लिए व्यवस्था की थी।

खरीदे गए उपहार

घर पर महिलाएं निर्जल-निराहार व्रत तो बाजार में सजनी के लिए उपहार तलाशने के लिए पति मनपसंद का तोहफा खरीदने में मशगूल रहे। किसी ने साड़ी, तो किसी ने गहने और अन्य गिफ्ट लेकर पूजा के बाद भेंट किया। सबसे कठिन माने जाने वाले इस व्रत में सुहागिन महिलाएं खिलखिलाती रहीं। वहीं पतियों ने अपनी पत्नियों के लिए उनकी मन पसंद उपहार का ख्याल रखा। कई दम्पति पूजा अर्चना के बाद पहले से बुक किए गए रेस्टारेंट होटल में जाकर डिनर लिया।

सब्सक्राइब करें हिन्दुस्तान का डेली न्यूज़लेटर

संबंधित खबरें