DA Image
1 जनवरी, 2021|5:13|IST

अगली स्टोरी

परीक्षा के लिए मिला अतिरिक्त समय तो खुशी से झूमे बोर्ड परीक्षार्थी

परीक्षा के लिए मिला अतिरिक्त समय तो खुशी से झूमे बोर्ड परीक्षार्थी

फतेहपुर। निज संवाददाता

वर्ष 2021 की हाईस्कूल एवं इंटरमीडियट के बोर्ड परीक्षार्थियों के लिए सीबीएसई ने बड़ी राहत दी है। हर वर्ष जहां मार्च माह से ही बोर्ड परीक्षाएं शुरू हो जाती थीं, इस बार बोर्ड ने मई माह से बोर्ड परीक्षाएं कराने का ऐलान किया है। जिससे छात्र-छात्राओं को दो माह से अधिक का समय तैयारी के लिए और मिल जाएगा। एक दिन पूर्व गुरुवार को की गई घोषणा के बाद बोर्ड परीक्षार्थियों ने जहां खुशी का इजहार किया है वहीं शिक्षकों ने भी कोर्स को बेहतर ढंग से तैयार कराने में मदद की बात कही।

शिक्षा सत्र 2020-21 कोविड-19 की भेंट चढ़ गया। कोरोना काल में सबसे अधिक शैक्षिक गतिविधियों पर ग्रहण लगाया है। जिसके कारण बीते मार्च माह से सितम्बर माह तक विद्यालय बंद रहे। शासन ने बोर्ड परीक्षार्थियों के लिए बंदिशों के साथ विद्यालय खोला तो कुछ पढ़ाई आगे बढ़ सकी। हालांकि बंदी के दौरान विद्यालयों द्वारा आनलाइन शिक्षा जारी रखी लेकिन बच्चों को रास नहीं आई, वह आफलाइन कक्षाओं को ही महत्व दिया। कम समय में बोर्ड परीक्षा की तैयारियों को लेकर परेशान छात्र एवं शिक्षकों तब राहत मिल गई जब बोर्ड ने इस बार परीक्षा मई माह में शुरू कराने का फरमान जारी कर दिया। सीबीएसई बोर्ड से जिले में करीब एक दर्जन से अधिक विद्यालय संचालित हो रहे हैं। जहां के बोर्ड परीक्षार्थियों की राह आसान हो सकेगी।

क्या बोले छात्र-छात्राएं..............

शिक्षामंत्री एवं बोर्ड के इस फैसले से बहुत राहत मिल रही है। जिस तरह से कोरोना काल में पढ़ाई प्रभावित हुई है इससे अतिरिक्त समय मिल जाने से परीक्षा की तैयारी और बेहतर हो जाएगी। स्कूल बंद होने के दौरान आनलाइन पढ़ाई तो की गई लेकिन प्रेक्टिकल आदि नहीं हो पाए हैं अब प्रेक्टिकल की तैयारी हो जाएगी। बच्चों के हित में यह एक सराहनीय कदम है।

-स्नेहा रस्तोगी, कक्षा-12 महर्षि विद्या मंदिर

शिक्षामंत्री डॉ. रमेश पोखरियाल के द्वारा मार्च में प्रैक्टिकल तथा मई में बोर्ड परीक्षा कराने से जुड़े इस अहम फैसला सराहनीय है। जहां लॉक डाउन के समय हम सभी छात्र-छात्राएं विद्यालय बंद रहने के कारण प्रैक्टिकल नहीं कर पाए थे, तो वहीं इस अहम फैसले के चलते प्रैक्टिकल समझने और करने का तथा खुद को बोर्ड परीक्षाओं के लिए तैयार करने का एक अच्छा मिलेगा।

-अंशुमान सिंह, कक्षा 12

मार्च के बजाए मई में बोर्ड परीक्षा कराने की सूचना मिली तो खुशी मिली है। पहली बार बोर्ड परीक्षा देना है। इस वर्ष कोरोना की वजह से पढ़ाई भी नियमित नहीं हो पाई थी। डर लग रहा था कि यदि दो माह बाद ही मार्च में परीक्षाएं हुईं तो कैसे नैया पार होगी। लेकिन बोर्ड ने बड़ी राहत दी है। मई तक तैयारी और बेहतर हो जाएगी।

-अंजलि द्विवेदी, कक्षा 10

पहली बार ही बोर्ड परीक्षा में बैठने का समय आया तो कोरोना ने पढ़ाई को प्रभावित कर दिया। समाचार के माध्यम से जानकारी मिली कि अब सीबीएसई की बोर्ड परीक्षाएं मार्च के बजाए मई माह से शुरू होंगी तो राहत मिली। अब करीब दो माह का और समय मिल जाएगा। जिससे परीक्षा की तैयारी और अच्छे से की जा सकेगी।

-हर्षित साहू, कक्षा-10

शिक्षकों के बोल.....

बोर्ड परीक्षाएं इस बार चार मई से 10 जून तक कराने का निर्णय अत्यंत सराहनीय है। इससे छात्र-छात्राओं को परीक्षा की तैयारी का अतिरिक्त समय मिल जाएगा। वहीं प्रेक्टिकल करने का भी समय मिल जाएगा। वहीं जुलाई माह में परिणाम आने के बाद बच्चे जुलाई में ही नई कक्षाओं में प्रवेश ले सकेंगे। कोविड काल में जीवन के मूल्य पर परीक्षा के अंकों का मूल्यांकन उतना महत्वपूर्ण नहीं है।

-राजेश मिश्रा, प्रवक्ता, महर्षि विद्या मंदिर

कोरोना काल में मई में परीक्षाएं कराने की फैसला काबिले तारीफ है। लॉक डाउन के दौरान प्रभावित हुई पढ़ाई को तैयार करने में छात्र-छात्राओं को जहां सहूलियत मिल सकेगी वहीं परीक्षा की तैयारियों के लेकर बच्चों के अंदर समाया भय भी दूर हो गया। दो माह के अतिरिक्त समय में बच्चे अच्छी तरह से परीक्षा के लिए तैयार हा सकेंगे।

-सीपी श्रीवास्तव, शिक्षक

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Board examiner happily gets extra time for exam