DA Image
31 अक्तूबर, 2020|7:07|IST

अगली स्टोरी

21 गांवों को मिलीं फागिंग मशीनें, दिया प्रशिक्षण

default image

जिले में फैली संक्रामक बीमारियों व मच्छर जनित बीमारियों पर रोक लगाने की कवायद स्वास्थ्य विभाग लगातार कर रहा है, लेकिन राहत मिलती नहीं दिख रही। मलेरिया विभाग की ओर से अमौली ब्लॉक में कार्यक्रम का आयोजन किया गया। जहां चिन्हित 21 गांवों को फागिंग मशीन देकर ब्लॉक के सफाईकर्मियों को प्रशिक्षित किया गया।

अमौली ब्लॉक में गुरुवार को फागिंग और संचारी पर प्रशिक्षण कार्यक्रम का आयोजन किया गया। जहां ब्लॉक के ही सफाई कर्मचारियों को प्रशिक्षित किया गया। जिला मलेरिया अधिकारी डॉ. एके सिंह ने बताया कि प्रशिक्षण कार्यक्रम के दौरान संक्रामक बीमारियों के चिन्हित अमौली ब्लॉक के 21 गांवों के प्रधानों को बुलाकर उन्हें फागिंग मशीन उपलब्ध कराई गई और गांवों में फागिंग कराने के निर्देश दिए गए। वहीं फागिंग मशीन चलाने के विषय पर उन्होंने ब्लॉक के सफाईकर्मचारियों को विशेष तौर पर प्रशिक्षण दिया। बता दें कि पिछले तीन माह से इन्हीं चिन्हित 21 गांवों में संक्रामक बीमारियों ने अपने पैर पसार रखे हैं। मच्छर जनित बीमारी के मामले में करीब-करीब हर गांव चपेट में आया है। इतना ही नहीं कई गांव ऐसे हैं जहां के मरीजों में डेंगू की भी पुष्टि हुई है। बीमारियों को बढ़ने से रोका जा सके इसके लिए यह कार्यक्रम आयोजित किया गया। इस मौके पर अमौली सीएचसी प्रभारी डॉ. पुष्कर कटियार, मलेरिया निरीक्षक अशीष त्रिपाठी, एडीओ पंचायत सहित विभागीय कर्मचारी मौजूद रहे।

इन गांवों को मिलीं फागिंग मशीन

रोटी, नसेनिया, आजमपुर गढ़वा, पनेरुवा, बीघनपुर, बुढ़वा, हसनपुर देवरी, देवरी बुजुर्ग, चांदपुर, नोनारा, मंगलपुर टकौली, कंजरन डेरा, बाबूपुर, नेवरी जलालपुर, लहुरी सरांय, रनूपुर, सरांय धर्मपुर, कुम्हारनपुर, चंदीपुर, हरिजनपुर, सहिमलपुर के प्रधानों को फागिंग मशीनें उपलब्ध कराई गईं।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:21 villages received fogging machines trained