DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

नर्सिंग होम में काम करते हुए बन गए ‘डाक्टर

नर्सिंग होम में काम करते हुए बन गए ‘डाक्टर

स्वास्थ्य विभाग के रहमोकरम पर अवैध और मनमाने तरीके से संचालित नर्सिंग होम में हर पल मरीजों की जिंदगी दांव पर हैं। कई अस्पतालों में मरीजों का इलाज एमबीबीएस डाक्टर नहीं बल्कि निजी अस्पतालों में काम करने वाले कथित डाक्टर कर रहे हैं। इनके पास डाक्टर की डिग्री है या डाक्टरी पेशे से जुड़ा अन्य कोई अनुभव लेकिन यह सीजेरियन से लेकर बड़े ऑपरेशन और गंभीर बीमारी से पीडि़त मरीजों पर भी हाथ आजमाते हैं। पूर्व में कई मरीजों की इलाज के दौरान मौत और परिजनों का हंंगामा इस बात के प्रमाण हैं, बावजूद इसके स्वास्थ्य विभाग की सेहत पर कोई असर नहीं है।

कई कर्मचारी हैं अस्पताल के मालिक

शादीपुर इलाके में इन दिनों एक नर्सिंग होम में मरीजों की खासी भीड़ है लेकिन यह जान कर हैरान होंगे कि इस निजी अस्पताल का संचालक पूर्व में एक नामी गिरामी अस्पताल में मामूली कर्मचारी था। काम के दौरान मिले कुछ अनुभवों के दम पर पक्का तालाब निवासी एक डाक्टर के साथ मिलकर नर्सिंग होम की नींव डाल दी। साल दर साल नर्सिंग होम का स्थान बदलता गया, एक नहीं कई मरीजों की मौत हुई, मरीजों का हंगामा हुआ लेकिन विभागीय संरक्षण में नर्सिंग होम फलता फूलता रहा है। नए सिरे से अस्पताल का रजिस्ट्रेशन कराया और मरीजों के साथ इलाज के नाम पर मनमानी जारी है।

नर्सिंग होम के धंधे में पैसा बोलता है। यह मात्र एक उदाहरण नहीं बल्कि शहर के गली मोहल्लों में खुले कई निजी अस्पतालों में कमोवेश यही खेल जारी है।

धंधे में लूट और पैसों का खेल

निजी नर्सिंग होम्स में खुलेआम लूट घसोट की जा रही है। सूत्रों की मानें तो दलालों, बिचौलियों और आशाओं के माध्यम से मरीजों को निजी अस्पतालों में लाया जाता है। हर किसी की हिस्सेदारी कमीशन के माध्यम से दिया जाता है। गंभीर बीमारी के हवाला देते हुए तीमारदारों में दशहत भरते हुए उन्हें बेहतर इलाज और मरीज के शीघ्र स्वस्थ्य करने का दम भरने के नाम पर एडवांस में बड़ी रकम जमा कराया जाता है। बाद में फाइनल पर्चे में भारी भरकम खर्च दिखा पैसा वसूल किया जाता है। सबसे बड़ा खेल डिलवरी के नाम किया जाता है। मरीज को देखते ही अक्सर यह जानकारी दी जाती है कि गर्भ में शिशु उल्टा है, पेट में बच्चे ने लैट्रिन कर दी है अब बिना आपरेशन के डिलवरी संभव नहीं है। मतलब नार्मल होने वाली डिलवरी को सीजर किया जाता है। अक्सर मरीज की हालत बिगड़ने या मौत होने पर नर्सिंग होम्स का यह खेल सामने आता है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:' Doctor ' poses while working at nursing home