DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   उत्तर प्रदेश  ›  कोरोना मुक्त गांव बना यहियापुर

फर्रुखाबाद कन्नौजकोरोना मुक्त गांव बना यहियापुर

हिन्दुस्तान टीम,फर्रुखाबाद कन्नौजPublished By: Newswrap
Tue, 01 Jun 2021 05:00 AM
कोरोना मुक्त गांव बना यहियापुर

कायमगंज (फर्रुखाबाद)। संवाददाता

कोरोना संक्रमण के दूसरे वेव में जहां संक्रमण से कोई हिस्सा अछूता नहीं रहा वहीं नगर से सटे याहियापुर गांव में एक भी संक्रमित नहीं मिला। यहियापुर ने सोशल डिस्टेसिंग, मास्क, सेनेटाइजर को हथियार बना कर कोरोना से जंग जीती।

शिवरईवरियार ग्राम सभा का मजरा यहियापुर नगर से बिल्कुल सटा हुआ है। इस गांव की 200 लोगों की आबादी है। करीब 80 घर बने हैं। एक दिशा में नगर का रेलवे रोड तो दूसरी तरफ ाालपुर पट्टी वहीं तीसरी व चौथी दिशा में चीनी मिल रोड उलियापुर गांव है। यहियापुर में 90 फीसदी लोग शिक्षित हैं। अप्रैल से मई तक के दूसरे सप्ताह तक कोरोना के पीक टाइम को देखा जाए तो वास्तव में यहियापुरवासियों ने कमाल कर दिया। कोरोना को लेकर उनकी गंभीरता से वास्तव में अब तक एक भी कोरोना संक्रमित नहीं पाया गया है। गांव में लोग जागरूक दिखे। वह लोग अनावश्यक इधर उधर घूमे नहीं। गांव के लोग कहते हैं कि सोशल डिस्टेसिंग, मास्क व सेनेटाइजर को हथियार बनाया। हर आने वाले व्यक्ति से दो गज से अधिक की दूरी बनाई। वह लगातार घर व बाहर को सेनेटाइज करते रहे। मुस्लिम इलाका होने पर ईद में भी सतर्कता रखी। गुनगुना पानी पीते रहे। वहीं हरी सब्जियों के साथ तली भुजी चीजों से परहेज किया।

ग्रामीणों का कहना है कि एक माह का कोरोना का पीक टाइम मुसीबत भरा था। आसपास मौतों व संक्रमितों के आंकड़े देख कर डर भी लगता था लेकिन गांववासियों ने धैर्य का परिचय दिया और अब तक कोई भी कोरोना का मरीज नहीं पाया गया है। यहियापुर के आसपास उलियापुर, चीनी मिल रोड व नगर से सटा होने पर रेलवे रोड, दत्तूनगला में संक्रमितों की बाढ़ थी। दत्तूनगला तो बेहद खतरनाक स्थिति में था। जहां संक्रमित ज्यादा थे। चुनाव की प्रक्रिया भी उनके गांव के पास ब्लॉक में हो रही थी। वहां हजारों की भीड़ थी लेकिन यहियापुर गांव वालों की सतर्कता से उन्होंने अब तक कोरोना की जंग जीत ली है। ग्रामीण इसको लेकर राहत महसूस करते हैं लेकिन ग्रामीण यह भी कहते हैं कि अभी लोगों को और सावधानी की जरूरत है। कोरोना की चेन नहीं बननी चाहिए।

संबंधित खबरें