DA Image
11 जुलाई, 2020|4:04|IST

अगली स्टोरी

आसमान से बरसी आग, सड़कों पर सन्नाटा

default image

जेठ माह की गर्मी अब गजब ढा रही है। कोरोना वायरस की महामारी के बीच पड़ रही गर्मी लोगों की नाक में दम किए है। सुबह 9 बजे के बाद ही दोपहर जैसी स्थिति मालुम पड़ रही है। शाम चार बजे तक तो लोग घर से निकलने को भी कद म खींच रहे हैं। लॉकडाउन में छूट के बाद खुली चहलकदमी भी दोपहर के चार घंटों में पूरी तौर पर गायब दिखाई पड़ रही है। रविवार को मौसम का अधिकतम पारा 43.1 डिग्री सेल्सियस तो वहीं न्यूनतम 29.2डिग्री सेल्सियस पर रहा है। सुबह को जरूर मौसम ऐसा बना कि बारिश होगी मगर बदरा निकल गए। जेठ माह की गर्मी ने इस बार लोगों को अहसास करा दिया है। गर्मी तो पिछले एक सप्ताह से जबरदस्त पड़ रही थी मगर रविवार को तो गर्मी ने गजब सा ढा दिया। जहां कहीं भी जो मिला उसकी जुबान से सिर्फ यही निकल रहा था कि गर्मी ने तो कमाल ही कर दिया। सुबह आठ बजे के बाद से ही सूर्य की तपिश बढ़ती गई। दस बजे के बाद तो स्थिति यह थी कि मानो आसमान से आग बरस रही हो। लोग पसीने से तर बतर होते दिखाई पड़े। मुख्य मार्गो से जो लोग भी निकले वह गर्मी से बचाव के लिए ढाटा बांधकर निकले। दोपहर के चार घंटों में सड़कों पर सन्नाटा सा पसरा दिखाई पड़ा। गली मोहल्लों में ज्यादा चहलकदमी नहीं रही। लोग घर से बाहर कदम रखने से बचे।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Rain in the sky silence on the streets