preparing - अब घोटालेबाजों पर गाज गिरने की तैयारी DA Image
10 दिसंबर, 2019|7:00|IST

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

अब घोटालेबाजों पर गाज गिरने की तैयारी

चुनाव निपटने के बाद अब विकास कार्यो में घोटालेबाजी करने वालों की भी शामत आने वाली है। डीएम ने पहले ही इसको लेकर सख्त रुख अपनाया था और चुनाव बाद ही सभी पत्रावलियों को तलब करने की बात कही थी। अब उन एक दर्जन ग्राम प्रधानों और पंचायत सचिवों की गड़बड़ी की पत्रावलियों को खंगाला जा रहा है जिन ग्राम पंचायतों पर बड़े पैमाने पर जांच के बाद घपले प्रकाश में आए थे। उनमें कोई कार्रवाई नहीं हो सकी थी। जिले में डेढ़ दर्जन से अधिक ग्राम पंचायतों में विकास कार्यो को लेकर जो धनराशि दी गई थी उसमें गड़बड़ी प्रकाश में आई थी। कई मामले शौचालय निर्माण में घपले से जुड़े हैं तो कई मामले अन्य विकास कार्यो से संबंधित हैं। इसमें चाहें मोहम्मदाबाद ब्लाक के राजा रामपुर मेई में आवास को लेकर गड़बड़ी का मामला हो या फिर कमालगंज ब्लाक के गदनपुर देवराज में जांच के बाद मिली लाखों रुपए की गड़बड़ी का मामला भी प्रमुख रूप से शामिल है। इसके अलावा कमालगंज के ही विचपुरी गांव में सरकारी धन के दुरुपयोग के मामले में जांच कमेटी बनाई गई थी उसकी भी रिपोर्ट का अभी तक कोई अता पता नहीं है। शमसाबाद के भगवानपुर गांव में विकास कार्यो की जांच पीडी और अधिशासी अभियंता जल निगम को दी गई थी उसकी जांच का भी अभी तक कोई अता पता नहीं लग सका है। मोहम्मदाबाद के सिठौली ग्राम पंचायत के अलावा बढ़पुर के याकूतगंज में गड़बड़ी का मामला भी काफी सुर्खियों में रहा था। इसके अलावा राजेपुर के कनकापुर गांव में आवास में गड़बड़ी का मामला अभी तक दबा हुआ है। मोहम्मदाबाद ब्लाक के सर्वाधिक ग्राम पंचायतों में गड़बड़ी के मामले प्रकाश में आए थे। अहिमलापुर ग्राम पंचायत में भी गड़बड़ी को लेकर अभी तक पत्रावली का कोई पता नहीं है। भरतपुर रसूलपुर में भी शौचालय निर्माण में गड़बड़ी पाई गई थी। इसके साथ ही शमसाबाद ब्लाक के बघऊ गांव में भी पुराने शौचालयो को नया बनाकर धनराशि के दुरुपयोग का मामला भी प्रशासन के संज्ञान में आया था। इस मामले में कोई कार्रवाई नहंी हुई।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: preparing