DA Image
20 फरवरी, 2021|10:56|IST

अगली स्टोरी

बदले मौसम में निमोनिया की बीमारी पसार रही पांव

बदले मौसम में निमोनिया की बीमारी पसार रही पांव

मौसम में उतार चढ़ाव से बीमारियां पैर पसारने लगी हैं। डायरिया के साथ अब निमोनिया का भी खतरा बढ़ गया है। बच्चे इसकी भी चपेट में आने लगे हैं। अस्पतालों में बीमार बच्चों की खासी भीड़ है। लोहिया अस्पताल की ओपीडी में इस समय बाल रोग विशेषज्ञ डॉ.राजेश तिवारी, एसपी सिंह को दिखाने के लिए एक सैकड़ा से अधिक अभिभावक अपने बच्चों को लेकर पहुंच रहे हैं। इसके अलावा एक दर्जन से अधिक गंभीर बीमार होने पर बच्चे इमरजेंसी में पहुुंच रहे हैं। निमोनिया को लेकर परिजन भी बच्चों की सेहत को लेकर चिंतित हो रहे हैं। डॉक्टर बीमारी बढ़ने का कारण तेजी से बदल रहे मौसम को मान रहे हैं। कहते हैं कि कभी गर्मी तो कभी हल्की नमी के कारण बच्चे बीमार हो रहे हैं। ऐसे में संक्रामक बीमारियों के साथ निमोनिया का खतरा भी बढ़ रहा है। आम तौर पर बुखार या जुकाम होने के बाद इसका खतरा बढ़ता है। बच्चा बीमारी में चिढ़चिढ़ा हो जाता है। सांस लेने में भी उसे दिक्कत आने लगती है। डॉ.राजेश तिवारी ने बताया कि यदि बच्चे को जरा सी भी दिक्कत लगे तो तुरंत डॉक्टर से सलाह लें। इसमें कोई लापरवाही न करें। क्योंकि इस समय निमोनिया भी फैल रहा है। उन्होंने कहा कि लापरवाही किसी तरह की न करें। समय से इलाज मिलने पर बच्चा ठीक हो जाएगा। इस मौसम में खान पान का भी विशेष ध्यान रखें। उन्होंने बताया कि अधिकतर बच्चे अभी डायरिया और निमोनिया के ही आ रहे हैं। सबसे अभिभावकों को जागरूक भी किया जा रहा है।