ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News उत्तर प्रदेशकड़ी निगरानी में शुरू हुई फार्मेसी परीक्षा, एक नकल करते पकड़ा

कड़ी निगरानी में शुरू हुई फार्मेसी परीक्षा, एक नकल करते पकड़ा

फर्रुखाबाद, संवाददाता। फार्मेसी सेमेस्टर की वार्षिक परीक्षा तीन परीक्षा केंद्रों पर शुरू हुई। पहले...

कड़ी निगरानी में शुरू हुई फार्मेसी परीक्षा, एक नकल करते पकड़ा
हिन्दुस्तान टीम,फर्रुखाबाद कन्नौजSat, 22 Jun 2024 11:25 PM
ऐप पर पढ़ें

फर्रुखाबाद, संवाददाता।

फार्मेसी सेमेस्टर की वार्षिक परीक्षा तीन परीक्षा केंद्रों पर शुरू हुई। पहले दिन ही एक परीक्षार्थी को उड़नदस्ते ने नकल करते पकड़ लिया और कापी सील की गई। बुंदेलखंड क्षेत्र के संयुक्त शिक्षा निदेशक ने परीक्षा केंद्रों का निरीक्षण किया। शनिवार को राजकीय पॉलीटेक्निक भोलेपुर, जीजीआईसी व जीआईसी फतेहगढ़ में फार्मेसी परीक्षा दो पालियों में हुई। सुबह की पाली में परीक्षा नौ बजे से 12 बजे तक और दूसरी पाली की परीक्षा दोपहर दो बजे से शाम पांच बजे तक हुई। परीक्षा केंद्रों के मुख्यगेट पर परीक्षार्थियों की सघन तलाशी के बाद प्रवेश दिया गया। सीसीटीवी कैमरों की निगरानी में शुरू हुई परीक्षा के दौरान कक्ष निरीक्षक परीक्षार्थियों पर नजरें बनाए रहे। बुंदेलखंड क्षेत्र के संयुक्त शिक्षा निदेशक संदीप कुमार सिंह तीनों परीक्षा केंद्रों पर पहुंचे और परीक्षा की हकीकत को परखा। डीआईओएस एनपी सिंह ने जीजीआईसी और जीआईसी परीक्षा केंद्रों पर पहुंचकर निरीक्षण किया। उड़नदस्ता टीम ने परीक्षा केंद्रों का निरीक्षण किया। निरीक्षण के दौरान उड़नदस्ता टीम को जीजीआईसी के कक्ष संख्या पांच में एक परीक्षार्थी नकल करते मिला। टीम ने परीक्षार्थी की कॉपी को सील कर दिया। जीजीआईसी में सुबह की पाली में पंजीकृत 414 में 359 परीक्षार्थियों ने परीक्षा दी। 55 अनुपस्थित रहे। शाम की पाली में पंजीकृत 249 में 240 परीक्षा देने आए। जीआईसी फतेहगढ़ में सुबह की पाली में पंजीकृत 458 में 361 व शाम की पाली में पंजीकृत 275 में 264 ने परीक्षा दी। पॉलीटेक्निक में सुबह की पाली में पंजीकृत 687 में 123 परीक्षार्थियों ने परीक्षा छोड़ दी। 564 उपस्थित रहे। शाम की पाली में पंजीकृत 694 में 663 ने परीक्षा दी। परीक्षा के दौरान सेक्टर मजिस्ट्रेट परीक्षा केंद्र पर पहुंच नजर बनाए रहे। फार्मेसी परीक्षा के नोडल अधिकारी व पॉलीटेक्निक के प्रधानाचार्य दयाचंद, केंद्र व्यवस्थापक दीपिका राजपूत और एपी सिंह आदि रहे।

यह हिन्दुस्तान अखबार की ऑटेमेटेड न्यूज फीड है, इसे लाइव हिन्दुस्तान की टीम ने संपादित नहीं किया है।