DA Image
26 अक्तूबर, 2020|3:55|IST

अगली स्टोरी

सतर्क होने की बजाय लापरवाह हो रहे लोग

सतर्क होने की बजाय लापरवाह हो रहे लोग

कोरोना संक्रमण के केस भले ही जिले में थोड़े कम हुए हैं। मगर इससे लापरवाह होने की आवश्यकता नहीं है। लॉकडाउन के बाद तो लोग सारी हदें तोड़ रहे हैं। संक्रमण की परवाह न करते हुए आवाजाही कर रहे हैं। अपनी सुरक्षा के लिए न तो मास्क का प्रयोग कर रहे हंै और न ही अन्य बचाव के माध्यम। त्योहार के चलते बाजारों में भीड़ काफी बढ़ रही है। कोविड 19 की गाइड लाइन बाजारों में कहीं पर भी नजर नहीं आ रही है। सितंबर और अक्तूबर माह मरीजों की संख्या के मामले में काफी आगे रहे। 15 अक्तूबर के बाद संक्रमित मरीजों के ग्राफ में कुछ कमीं आई है फिर भी जिले में रोजाना 20 से 25 मरीज औसतन पॉजिटिव निकल रहे हैं। इनमें ऐसे भी तमाम पॉजिटिव आ रहे हैं जो कांटेक्ट केस हैं। याकूतगंज में तो स्वास्थ्य विभाग की लापरवाही के बाद लगातार केस निकल रहे हैं। यहां पर यदि पहले चेकअप कर लिया जाता तो मरीजों की संख्या अधिक नहीं होती। जिले में 9 मई को पहला कोरोना पॉजिटिव केस आया था जो कि शमसाबाद में था। इसके बाद धीरे धीरे पॉजिटिव मरीजों की संख्या में इजाफा हुआ। मगर सितंबर और अक्तूबर महीने मरीजों के मामले में सबसे अधिक भारी रहे। सितंबर के अलावा अक्तूबर में अभी तक जो केस सामने आए हैं उससे यहां पर अचानक ग्राफ तेजी के साथ बढ़ गया। यह ग्राफ बढ़कर 3701 पर पहुंच गया। हालांकि अब पिछले दो तीन दिनो से औसतन 20 से 25 मरीज रोजाना पॉजिटिव आ रहे हैं। इससे थोड़ी राहत महसूस की जा रही है। फिर भी लोग अभी घबरा रहे हैं।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:People being careless instead of being cautious