DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

गड़बड़ी में फंसे पीसीएफ गोदाम प्रभारी , रिपोर्ट दर्ज

मंझना की पीसीएफ गोदाम के प्रभारी के खिलाफ जिला प्रबंधक ने धोखाधड़ी का मुकदमा दर्ज कराया है। उन पर मिलावटखोरी कर गोरखधंधा करने का आरोप लगा है। एसडीएम ने दो दिन पहले छापा मारकर नमूने लिए थे। इसके बाद गोदाम को सील कर दिया गया था। स्टाक का मिलान कर अभिलेखों की जांच भी की गई थी। सोमवार को डीएम के निर्देश पर एसडीएम कायमगंज अनिल कुमार, जिला कृषि अधिकारी डॉ.राकेश कुमार सिंह, एआर कोआपरेटिव पंकज श्रीवास्तव भारी फोर्स के साथ मंझना स्थित पीसीएफ गोदाम में पहुंचे थे। गोदाम के अंदर पुरानी सिंगल सुपर फास्फेट की बोरियां रखी मिली थीं। करीब 49 बोरियों को डीएपी की बोरियों में पलटा हुआ पाया गया। इन बोरियों की सिलाई भी कर दी गई थी। टीम ने 40 बोरी खाद की एक बगैर नंबर की गाड़ी पर रखा हुआ पाया। जिला कृषि अधिकारी ने खाद के नमूने लिए थे। गड़बड़ी की आशंका में गोदाम को भी सील करा दिया गया था। पीसीएफ गोदाम के जिला प्रबंधक अमित दुबे ने बुधवार को गोदाम प्रभारी सुग्रीव के खिलाफ धोखाधड़ी व मिलावट खोरी करने का मुकदमा दर्ज कराया है। इंस्पेक्टर ने बताया कि तहरीर मिलते ही रिपोर्ट दर्ज कर ली गई है। बताते चले कि अभी विभागीय अधिकारियों के हाथ पुराना रिकार्ड नहीं लगा है। इसको पाने का प्रयास किया जा रहा है। इसके मिलने के बाद और भी खुलासा सामने आ सकेगा । मामले में शासन को भी अवगत करा दिया गया है। महत्वपूर्ण बात यह हैं कि गोदाम पर मिलावट का जो कार्य चल रहा था उसके बारे में विभागीय अधिकारी पूरी तरह से अंजान थे । जबकि जिला प्रबंधक समेत सहाकारिता विभाग के अधिकारियों को निर्देश हैं कि नियमित रूप से गोदाम का निरीक्षण या फिर निगरानी की जाए । इस लापरवाही में पीसीएफ के अन्य अधिकारी भी सवालों के घेरे में है ।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: PCF