DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   उत्तर प्रदेश  ›  अभिभावक नहीं दे रहे सहमति, शिक्षकों की बढ़ी मुसीबत

फर्रुखाबाद कन्नौजअभिभावक नहीं दे रहे सहमति, शिक्षकों की बढ़ी मुसीबत

हिन्दुस्तान टीम,फर्रुखाबाद कन्नौजPublished By: Newswrap
Sat, 27 Feb 2021 04:20 AM
अभिभावक नहीं दे रहे सहमति, शिक्षकों की बढ़ी मुसीबत

फर्रुखाबाद। हिन्दुस्तान संवाद

कक्षा 1 से 5 तक के स्कूल भले ही एक मार्च से खुलने जा रहे हैं। मगर अभिभावक फिलहाल बच्चों को स्कूल भेजने को तैयार नहीं हो रहे हैं। सहमति पत्र भरवाने के लिए शिक्षक अभिभावकों सें संपर्क कर रहे हैं उन्हें समझाने का भी प्रयास किया जा रहा है। मगर सार्थक परिणाम नहंी आ रहे हैं। कई ब्लाकों में शिखकों ने इस प्रकार की समस्या उच्चाधिकारियों को भी बताई है।

इस पर दूसरे फार्मूले भी आजमाए जा रहे हैं। सिर्फ रजिस्टर पर ही अभिभावकों के हस्ताक्षर कराने की भी रूपरेखा बनाई ज रही है। जिले में 1299 बेसिक शिक्षा विभाग के अधीन प्राइमरी विद्यालय हैं। इसके अलावा इतनी ही संख्या निजी विद्यालयों की भी होगी। बेसिक शिक्षा विभाग के प्राइमरी स्कूलों में 135814 बच्चे नामांकित हैं। जो जूनियर विद्यालय पहले खोले जा चुके हैंवहां पर भी अभी तक पढ़ाई का माहौल नहीं बन पाया है। अभिभावक अभी भी सशकित है। यही स्थिति कक्षा 1 से 5 तक के एक मार्च से खुलने वाले विद्यालयों में अध्ययनरत बच्चों के अभिभावकों के साथ भी है। अभिभावक फिलहाल सहमति पत्र भरने को तैयार नही है। इसको लेकर अध्यापक भी लगातार अभिभावकों के दरवाजे पर डयूटी बजा रहे हैं। बच्चों को स्कूल भेजने के लिए भी समझाया जा रहा है। मगर दूसरे प्रदेशों में कोरोना वायरस का संक्रमण बढ़ने के चलते अभिभावक फिलहाल स्कूल भेजने के लिए सहमत नहंी हैं। कई अध्यापक इसको लेकर टेंशन में हैं। प्राइमरी विद्यालय नेकपुर खुर्द के प्रधानाचार्य सोमनाथ ने बताया कि बच्चों के अभिभावकों से लगातार संपर्क किया जा रहा है। इसके बाद भी कई अध्यापक सहमति पत्र नहंी भर रहे हैं। उन्होंने बताया कि उनके विद्यालय में विद्यालय संचालन को लेकर सभी सुरक्षात्मक उपाय कर लिए गए हैं।

संबंधित खबरें