DA Image
हिंदी न्यूज़ › उत्तर प्रदेश › बसों का न सेनेटाइजेशन और न बाहर से आने वाले यात्रियों की जांच
फर्रुखाबाद कन्नौज

बसों का न सेनेटाइजेशन और न बाहर से आने वाले यात्रियों की जांच

हिन्दुस्तान टीम,फर्रुखाबाद कन्नौजPublished By: Newswrap
Sat, 31 Jul 2021 04:30 AM
बसों का न सेनेटाइजेशन और न बाहर से आने वाले यात्रियों की जांच

फर्रुखाबाद। संवाददाता

रोडवेज बसों से हर रोज सैकड़ों की संख्या में अन्य शहरों से जिले में आते और जाते हैं। कोरोना की तीसरी को देखते हुए प्रशासन की ओर से अभी तक यहां कोई ठोस कदम नहीं उठाए गए हैं। चालक परिचालक से लेकर यात्री बिना मास्क के सफर कर रहे हैं। बाहर से आने वाले यात्रियों की कोई जांच भी नहीं की जा रही है। ऐसे में सवाल उठ रहे हैं कि कहीं रोडवेज बसों के जरिए जिले में कोरोना की तीसरी लहर दाखिल न हो जाए।

कोरोना की प्रथम और द्वितीय लहर देख चुके जिम्मेदार अभी भी गंभीर नहीं हुए हैं। दोनों लहरों में जिस तरीके से कोरोना संक्रमण जिले में हावी हुआ यह किसी से छिपा नहीं है। देखा गया कि कोरोना संक्रमण का जिले में पहला संक्रमित मरीज बाहर से आने वाला निकला था। जिसके बाद लगातार मरीज बढ़ते चले गए। कोरोना की दूसरी लहर ने तो जिले के लोगों को हिलाकर रख दिया था। कोरोना ने जिले में मौत का तांडव मचाया था। यह सब देख चुके जिम्मेदार अभी भी मौन बने बैठे हुए हैं। जिम्मेदारों को मालूम होगा कि किन कारणों से जिले में कोरोना संक्रमण हावी रहा लेकिन इसके बाद भी तीसरी लहर की आशंका को लेकर अभी तक कोई ठोस कदम नहीं उठाए जा रहे हैं। देखा गया है रोडवेज बसों से सबसे ज्यादा अन्य शहरों से जिले में लोग पहुंचते हैं। दिल्ली, जयपुर, मुम्बई आदि शहरों के लोग हर रोज सैकड़ों की संख्या में आते जाते हैं। रोडवेज बसों में न तो चालक मास्क लगा रहे हैं और न ही यात्री मास्क का प्रयोग कर रहे हैं। बस अड्डे पर हर रोज लेटलतीफ पहुंचने वाली बसों में सीट पाने की होड़ में बस में चढ़ने को यात्रियों में धक्का मुक्की होती है। लेकिन इसके बाद भी रोडवेज और स्वास्थ्य विभाग की ओर से अभी यहां कोई सख्ती नहीं की गई है। रोडवेज बस से दिल्ली मुम्बई, जयपुर, हैदराबाद, आगरा, कानपुर से यात्री पहुंचते हैं लेकिन इन यात्रियों की कोई जांच नहीं की जाती है। रोडवेज बसों में यात्रियों से यह भी नहीं पूछा जाता है कि किस किस ने बैक्सीन लगवाई है। इस समय शहर के रोडवेज की 60 बसें विभिन्न रूटों पर संचालित हो रहीं हैं। इसके अलावा अन्य डिपो की इतनी ही बसें यहां पहुंचतीं हैं। यही लापरवाही जारी रही तो संभावित कोरोना की तीसरी लहर रोडवेज बसों के ज़रिए जिले में दाखिल हो सकती है। जिला प्रशासन और रोडवेज को इस ओर जल्द ध्यान देना होगा।

संबंधित खबरें