DA Image
23 जनवरी, 2020|1:49|IST

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

आए थे दवा लेने, बुखार से तपकर घर लौटे

आए थे दवा लेने, बुखार से तपकर घर लौटे

लोहिया अस्पताल की ओपीडी में शुक्रवार को मरीजों की भीड़ भाड़ रही। फिजीशियन के न होने से दो सैकड़ा से अधिक मरीज खासे परेशान हुए। बुखार से तप रहे मरीजों को मजबूर होकर दूसरी जगह जाना पड़ा। फिजीशियन सरकारी कार्य से गए थे। जबकि उन्हें दिखाने के लिए सुबह आठ बजे से ही उनके कक्ष के बाहर मरीजों की लंबी लाइन लगी हुई थी। फिजीशियन हर रोज दो सौ से अधिक मरीज देखते हैं। इस समय मौसम का मिजाज बदला चल रहा है। ऐसे में टायफाइड के साथ खांसी, जुकाम और बुखार के भी मरीज आ रहे हैं। सुबह 10 बजे जब मरीजों को पता चला कि फिजीशियन नहीं बैठेंगे तो ऐसे में वह परेशान हो गए। बुखार से तप रहे रामवीर निवासी कादरीगेट ने बताया कि सुबह 9 बजे वह आ गए थे। कोई बताने वाला नहीं था इसलिए अब दूसरे अस्पताल में जाने के लिए मजबूर होना पड़ेगा। कुटरा निवासी अनोखे यादव ने बताया कि उनके नाती को बुखार आ रहा है। दिखाने आए, नहीं है तो जाना पड़ेगा। इस तरह से यहां और कई मरीज परेशान होते नजर आए। वहीं बाल रोग विशेषज्ञ डा.राजेश तिवारी के पास भी बच्चों को दिखाने के लिए भीड़ रही। कई बार महिलाएं आपस में भिड़ीं। धक्का मुक्की भी हुई। मनोज पांडेय, विवेक सक्सेना, बीके दुबे के पास भी मरीजों की भीड़ रही। सर्जन डा.गौरव मिश्रा ओटी में थे इसलिए इनके मरीज भी भटके। वहीं डाक्टर शिखर के न होने से नाक, कान, गला के रोगियों को भी भटकना पड़ा।