ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News उत्तर प्रदेशमुद्दे दरकिनार, मतदाता जातियों की नाव पर सवार

मुद्दे दरकिनार, मतदाता जातियों की नाव पर सवार

फर्रुखाबाद। लोकसभा निर्वाचन में मुद्दे पूरी तौर पर दरकिनार दिखायी पड़े। मतदाता भी जातियों...

मुद्दे दरकिनार, मतदाता जातियों की नाव पर सवार
हिन्दुस्तान टीम,फर्रुखाबाद कन्नौजTue, 14 May 2024 12:30 AM
ऐप पर पढ़ें

फर्रुखाबाद। लोकसभा निर्वाचन में मुद्दे पूरी तौर पर दरकिनार दिखायी पड़े। मतदाता भी जातियों की नाव पर सवार नजर आये। जिस तरीके से सुबह से वोटरों ने अपने मताधिकार का प्रयोग किया और अपने अपने प्रत्याशियों के लिए हवा का रुख जाना। उससे यही लग रहा था कि मतदाताओं को न तो महंगाई, बेरोजगारी या फिर अन्य महत्वपूर्ण मुद्दों से मतलब है बल्कि उन्हें सिर्फ अपनी जाति बिरादरी की चिंता है। शहर के ही चीनीग्रान बूथ पर जो स्थिति दिखायी दी उससे अंदाजा लगाया जा सकता था कि वोटरों के सामने मुद्दे गौड़ हैं। इस बूथ पर ज्यादातर मुस्लिम आवादी है। इसी तरह से लिंजीगंज के प्राइमरी पाठशाला के बूथ पर भी जब मतदाताओं से बातचीत की गयी तो उन्होंने सिर्फ यही कहा कि उनका प्रत्याशी चुनाव मैदान में है तो ऐसे में उनकी भी मदद की जाएगी। इस केंद्र पर शाक्य बिरादरी के वोटों की बाहुल्यता है। मुस्लिम बाहुल्य मोहल्लों से ताल्लुक रखने वाले बूथ सिविल अस्पताल लिंजीगंज, एनएकेपी डिग्री कालेज, भारतीय पाठशाला, टाउनहाल और मऊदरवाजा के बूथों पर भी चुनाव में परिदृश्य पूरी तौर पर बदला दिखायी पड़ा। यहां पर अपने अपने गढ़ों को सुरक्षित रखने के लिए सियासी दल वोटरों पर निगाह रखे थे। वोटरों को लामबंद करने के लिए भी बिस्तरों पर सियासी दलों के लोगों ने खूब कोशिशें की। मगर मतदाता भी अपने मिजाज के थे उन्होंने जाति के आगे मुद्दों को पूरी तौर पर दरकिनार करने का काम किया।

शाम चार बजे के बाद ही बस्तों पर गिनती के लोग

फर्रुखाबाद, संवाददाता। लोकसभा निर्वाचन में राजनीतिक दलों के बस्तों पर कुछ ज्यादा गहमा गहमी नहीं थी। सुबह जरूर दो घंटों तक अपनी पर्ची आदि के लिए मतदाता राजनीतिक दलों के बिस्तरों पर पहुंचे। इसके बाद बिस्तरों पर कोई ज्यादा रौनक नहीं देखी गयी। बद्रीविशाल डिग्री कालेज, क्रिश्चियन कालेज आदि बूथों पर राजनीतिक दलों के बिस्तरों पर सन्नाटा पसरा था। इसके अलावा डीएन कालेज से कुछ दूर पर स्थित राजनीतिक दलों के बिस्तरों पर भी उंगलियों पर गिनने लायक लोग नही थे। वैसे चुनावी परिदृश्य कुछ भी हो सियासी दलों की धड़कन बढ़ गयी है। क्योंकि पूरा चुनाव जिस तरह से जातीयता की नाव पर सवार होकर हुआ है उससे भी सियासी दल पूरी तौर पर गणित लगा पाने की स्थिति में नही हैं।

चुनाव निपटने के बाद बांट दी गयी मिठाई

फर्रुखाबाद। लोकसभा चुनाव का मतदान निपटने के बाद ही सियासी दल अपने अपने दावों में मगन हो गये। समाजवादी पार्टी की ओर से तो बकायदा मिष्ठान का वितरण भी करा दिया गया। बढ़पुर में पूर्व जिला महासचिव रामसनेही यादव उर्फ मुन्ना ने कार्यकर्ताओं को मिठाई खिलाकर पहले से ही खुशी जाहिर कर दी तो वहीं दूसरी ओर भाजपा और बसपा के नेता भी अपने अलग अलग दावे करने में लग गये।

यह हिन्दुस्तान अखबार की ऑटेमेटेड न्यूज फीड है, इसे लाइव हिन्दुस्तान की टीम ने संपादित नहीं किया है।