DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   उत्तर प्रदेश  ›  यह कैसी मानीटरिंग, निर्माण कार्य में गुणवत्ता तार-तार
फर्रुखाबाद कन्नौज

यह कैसी मानीटरिंग, निर्माण कार्य में गुणवत्ता तार-तार

हिन्दुस्तान टीम,फर्रुखाबाद कन्नौजPublished By: Newswrap
Sun, 13 Jun 2021 11:01 PM
यह कैसी मानीटरिंग, निर्माण कार्य में गुणवत्ता तार-तार

फर्रुखाबाद। संवाददाता

पंचायत भवन और सामुदायिक शौचालय के निर्माण में सरकारी धन का खूब दुरुपयोग हो रहा है। ऐसा नहीं है कि पंचायत भवनों और सामुदायिक शौचालय के निर्माण की मानीटरिंग नहीं कराई जा रही है। मगर जिम्मेदारों की ओर से मानीटरिंग करने वालों पर किसी तरह से शिकंजा नहीं कसा गया। यही वजह है कि कई ब्लाकों में घटिया निर्माण के मामले सामने आए हैं। दो ग्राम विकास अधिकारियों पर निलंबन की गाज भी गिर चुकी है।

ग्राम पंचायतों में लाखो की लागत से पंचायत भवन और सामुदायिक शौचालय का निर्माण कराया जा रहा है। पहले जब प्रधान का कार्यकाल खत्म हो गया था। तब सचिवों ने निर्माण कायार्े में खूब अंधेरगर्दी की। अब जबकि प्रधान निर्वाचित हो चुके है। तो नए सिरे से भ्रष्टाचार की परते सामने आने लगी है। सीडीओ अरुन्मोली ने शमसाबाद ब्लाक में जिस तरह से घटिया निर्माण कार्य को पकड़ा, उससे बाकी क्षेत्रों में घटिया काम करान ेवालों की नींद उड़ी है। वैसे पंचायतीराज विभाग की ओर से समय समय पर पंचायत भवनों और सामुदायिक शौचालय के निर्माण कायार्ें का ेलेकर निरीक्षण कराया जा रहा। इस निरीक्षण में हकीकत में क्या स्थिति है। इस बारे में उच्चाधिकारियों को अवगत कराने की जरूरत क्यों नहंीं समझी जा रही है। यह अपने आप में बड़ा सवाल है। कमालगंज, राजेपुर और कायमगंज में भी कई सामुदायिक शौचालय और पंचायत भवन भी जांच के घेरे में है। मोहम्मदाबाद में भी यही स्थिति है। मनमाने तरीके से सरकारी धन का प्रयोग कर घटिया दर्जे के शौचालय और पंचायत भवन का काम कराया गया है। अब सीडीओ ने सभी पंचायत भवनों और शौचालय की गुणवत्ता पर निगाह जमाई है तो जिम्मेदारों पर भी कार्रवाई की तलवार लटक रही है। बता दे कि सीडीओ ने शमसाबाद क्षेत्र के दो ग्राम विकास अधिकारियों पर निलंबन की कार्रवाई की है। सीडीओ की जांच में पंचायत भवन का घटिया निर्माण कार्य पाया गया था।

संबंधित खबरें