DA Image
हिंदी न्यूज़ › उत्तर प्रदेश › गंगा ने फिर उड़ाई नींद, जलस्तर 15 सेंटीमीटर और बढ़ा
फर्रुखाबाद कन्नौज

गंगा ने फिर उड़ाई नींद, जलस्तर 15 सेंटीमीटर और बढ़ा

हिन्दुस्तान टीम,फर्रुखाबाद कन्नौजPublished By: Newswrap
Sun, 26 Sep 2021 04:01 AM
गंगा ने फिर उड़ाई नींद, जलस्तर 15 सेंटीमीटर और बढ़ा

फर्रुखाबाद। संवाददाता

गंगानदी ने एक बार फिर तराई इलाके के लोगो की धुकधुकी बढ़ा दी है। जलस्तर 15सेंटीमीटर बढ़कर चेतावनी बिंदु के नजदीक पहुंच गया है। इससे तराई और गंगापार क्षेत्र में खतरा बढ़ गया है। गंगा के कहर से बचने के लिए लोग जद्दोजहद करने लगे हैं। कई गांव की ओर तेजी के साथ पानी बढ़ रहा है तो वहीं संपर्क मार्ग फिर से पानी की चपेट में आ रहे हैं। जैसे तैसे संभलने की स्थिति बनी थी कि फिर से गंगा काकहर बरपने लगा है। शाम को गंगानदी का जलस्तर 15 सेंटीमीटर बढ़कर 136.50 मीटर पर पहुंच गया जो कि चेतावनी बिंदु से दस सेंटीमीटर दूर है।

रामगंगा नदी अभी विलो गेज पर चल रही हैं तो वहीं नरौरा बांध से गंगानदी में 53966, हरिद्वार 54111, बिजनौर से 50921 क्यूसेक पानी छोड़ा गया है। जबकि हरेली खो और रामनगर बैराज से 2148 क्यूसेक पानी पास किया गया। गंगानदी के बढ़े जलस्तर से तराई क्षेत्र में खौफ बढ़ गया है। स्थिति यह है कि रात से पानी अचानक काफी तेजी के साथ बढ़ा है। सुबह जब प्रभावित क्षेत्रों मे लोग उठे तो आस पास क्षेत्रों में पानी दिखाई दिया। इससे लोगों की नींद उड़ गई। तराई कंपिल और शमसाबाद में गंगा का कहर खूब ढंग से बरप रहा है। यहां पर कटान पहले से ही चल रहा था कि फिर से पानी की बढ़ोत्तरी होने से चारो तरफ पानी ही पानी नजर आ रहा है। गंगापार के पूरव और पश्चिमी क्षेत्रों में भी पानी का दबाव बढ़ा है। यहां पर भी रात से अचानक जलस्तर में बढ़ोत्तरी हुई और कई क्षेत्रों की ओर पानी तेजी के साथ बढ़ने लगा। कई संपर्क मार्ग जो एक दिन पहले ठीक थे उन पर पानी निकलने लगा। रात तक और पानी बढ़ने की संभावना जताई जा रही है। इससे लोग दहशत में हंैं। कंपिल की कटरी के अलावा सदर तहसील क्षेत्र के निचले इलाकों में भी जलस्तर बढ़ गया है। यहंा पर भी कई मांर्गो पर पानी चलने लगा है तो कई रूट के किनारे पानी पहुंच गया है। वहीं प्रशासन की ओर से प्रभावित क्षेत्रो में अभी तक निगरानी नहीं बढ़ाई गई है। पूरे दिन जिला प्रशासन गरीब कल्याण महोत्सव में जुटा रहा। जबकि प्रभावित क्षेत्रों में पीड़ितो की मदद करने की कोशिश नहीं की गयी।

संबंधित खबरें