ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News उत्तर प्रदेश210 बेड के अस्पताल में अग्नि सुरक्षा के इंतजाम नाकाफी

210 बेड के अस्पताल में अग्नि सुरक्षा के इंतजाम नाकाफी

फर्रुखाबाद, संवाददाता। दिल्ली के अस्पताल में आग की जो घटना हुई उसको लेकर यहां...

210 बेड के अस्पताल में अग्नि सुरक्षा के इंतजाम नाकाफी
हिन्दुस्तान टीम,फर्रुखाबाद कन्नौजMon, 27 May 2024 11:25 PM
ऐप पर पढ़ें

फर्रुखाबाद, संवाददाता।

दिल्ली के अस्पताल में आग की जो घटना हुई उसको लेकर यहां कोई गंभीरता नहीं दिखायी जा रही है। जिले के सबसे बड़े लोहिया पुरुष अस्पताल में अग्नि सुरक्षा के इंतजाम नाकाफी हैं। 210 बेड के अस्पताल में आग से निपटने के लिए फायर सिलेंडर ही सहारा है। इनको भी ठीक से कर्मी चलाना नहीं जानते। ऐसे में कभी कोई दिक्कत हुई तो नियंत्रित करना मुश्किल हो जाएगा। लोहिया अस्पताल में अपने जिले के अलावा सीमावर्ती कन्नौज, मैनपुरी, एटा, कासगंज, शाहजहांपुर, हरदोई के मरीज भी इलाज के लिए आते हैं। ओपीडी में 700 से 800 मरीजों की हर रोज इन दिनों भीड़ हो रही है। वार्डों में भी 40 से 50 मरीज भर्ती रहते हैं। अस्पताल में अग्नि सुरक्षा के पर्याप्त इंतजाम नहीं हैं। 210 बेड के अस्पताल में अग्नि सुरक्षा के लिए 45 छोटे सिलेंडर आग बुझाने के लिए लगे हऐ हैं वह भी अगले महीने एक्सपायर होने वाले हैं। अस्पताल परिसर में पानी की टंकी बनी है लेकिन ऐसी कोई व्यवस्था नहीं है जिससे प्रेशर से पानी जरूरत पड़ने पर मिल सके। अस्पताल में जगह जगह पर छोटे फायर सिलेंडर लगे हैं और बाल्टी में बालू है। कई बालू से भरी बाल्टी को लोगों ने पीकदान बना रखा है। जिम्मेदार इसको लेकर भी गंभीर नहीं हो रहे हैं। लोहिया अस्पताल में ओपीडी से इमरजेंसी तक नजर दौड़ाई जाये तो दोनों में काफी फासला है तो लेकिन इमरजेंसी से प्रथम तल के लिए अलग अलग रास्ते हैं। प्रथम तल पर कक्ष नजदीक ही मरीजों को भर्ती करने के लिए बने हए हैं। अस्पताल में अग्नि सुरक्षा के लिए मजबूत इंतजाम नहीं किए जा रहे हैं। इससे हर समय डर लगा रहता है कि कहीं कोई समस्या खड़ी न हो जाए। क्योंकि फतेहगढ़ में अग्नि शमन का दफ्तर है। ऐसे में यदि जरूरत पड़े और गाड़ी को दिन में बुलाया जाए तो 15 से 20 मिनट गाड़ी पहुंचने में लग जाएंगे। मुख्य रोड पर भीड़ रहती है और फतेहगढ़ से गाड़ी आने में टाइम लगता है। अस्पताल में क्यों नहीं सुरक्षा के इंतजाम पूरे हो रहे हैं इसको लेकर कोई बोलने को तैयार नहीं है। काफी समय से अस्पताल में सुरक्षा के इंतजाम अधूरे हैं।

यह हिन्दुस्तान अखबार की ऑटेमेटेड न्यूज फीड है, इसे लाइव हिन्दुस्तान की टीम ने संपादित नहीं किया है।
अगला लेख पढ़ें