DA Image
हिंदी न्यूज़ › उत्तर प्रदेश › सड़कों पर उतरे किसान, सरकार पर गरजे
फर्रुखाबाद कन्नौज

सड़कों पर उतरे किसान, सरकार पर गरजे

हिन्दुस्तान टीम,फर्रुखाबाद कन्नौजPublished By: Newswrap
Tue, 28 Sep 2021 05:20 AM
सड़कों पर उतरे किसान, सरकार पर गरजे

फर्रुखाबाद। संवाददाता

अपनी मांगो को लेकर सोमवार को किसान सड़कों पर उतरे। काले कानून को वापस लेने, महंगाई के साथ बिजली पर किसानों ने सरकार को ललकारा। किसानो ने चुन चुन कर सरकार पर शब्दबाण छोड़े। मुख्य रोड पर जुलूस निकालकर किसानों ने अपनी ताकत का अहसास कराया और एकता को लेकर हुंकार भरी। किसानों के विरोध प्रदर्शन से मुख्य रोड पर निकलना भी मुश्किल हुआ।

सुबह से ही बड़ी सख्या में किसान क्रिश्चियन कालेज के मैदान पर एकत्र होने लगे। सुरक्षा को देखते हुए पुलिस भी चौकन्नी रही। यहां से आधा दर्जन से अधिक किसान संगठनों के नेता सरकार पर निशाना साधते हुए पुलिस की निगरानी में जुलूस लेकर कलेक्ट्रेट के लिए रवाना हुए। पुलिस ने किसानों को समझाने का प्रयास किया पर बात नहीं बनी। पुलिस को जब पता चला कि किसान मुख्य रोड पर जाम लगा देंगे तो ऐसे में पुलिस आगे चल पड़ी। किसान पीछे पीछे नारेबाजी करते हुए चले। मैदान से बढ़ने के बाद जब किसान मुख्य रोड पर बढ़पुर में पहुंचे तो यहां करीब पांच मिनट तक मुख्य रोड पर धरना देकर बैठ गए। सरकार को जमकर ललकारा। इसके बाद किसानो ने आवास विकास तिराहा, नेकपुर, भोलेपुर और फतेहगढ़ चौराहे पर धरना देकर अपनी मांगों को जोरदार ढंग से उठाया। यहां से किसान बड़ी संख्या में सीधे कलेक्ट्रेट की ओर नारेबाजी हुए बढ़ गए। कलेक्ट्रेट में पहुंचकर किसानो ने अपनी बात रखी। सुरक्षा को लेकर यहां भी पुलिस चौकन्नी रही। बाद में सीओ की मौजूदगी में सिटी मजिस्ट्रेट को किसानों ने अपनी मंागो का पत्र सौंपा। किसानो ने कहा कि तीनो कृषि कानूनो को सरकार वापस ले। बिजली बिल को लेकर भी किसानों ने बात रखी। पराली जलाने पर दंड जैसे कानून को रद्द किया जाए। फसलों का न्यूनतम समर्थन मूल्य की गारंटी मांगी गयी। महंगाई पर भी किसानो ने आवाज उठाई। कहा कि डीजल, पेट्रोल, रसोई गैस के दाम बढ़े हैं। ऐसे में इन्हें आधा किया जाए। दवाई के दाम भी कम किए जाएंं। मजदूर विरोधी चार श्रम कोड वापस लिए जाएं।

संबंधित खबरें