DA Image
हिंदी न्यूज़ › उत्तर प्रदेश › सूखीं नहरें नलकूप खराब टूट रहे किसानों के अरमान
फर्रुखाबाद कन्नौज

सूखीं नहरें नलकूप खराब टूट रहे किसानों के अरमान

हिन्दुस्तान टीम,फर्रुखाबाद कन्नौजPublished By: Newswrap
Thu, 08 Jul 2021 05:40 AM
सूखीं नहरें नलकूप खराब टूट रहे किसानों के अरमान

फर्रुखाबाद। संवाददाता

खरीफ की फसलों की तैयारी में जुटे किसान बारिश न होने से परेशान हैं। डीजल और बिजली महंगी होती जा रही है। ऐसे में सूखी पड़ीं नहरें और सरकारी नलकूपों की हालत से किसान हलकान हैं।

किसानों को समझ नहीं आ रहा है कि खरीफ की फसल कैसे हो सकेगी। जिले में एक बड़े रकवे में खरीफ की फसल होती है। किसान खरीफ की फसल की बोआई की तैयारी जुटे हैं। डीजल, बिजली पर हुई महंगाई के चलते सिंचाई महंगी हो गई है। इससे किसानों की हालत पस्त हो रही है। निजी संसाधन से सिंचाई करना किसानों के लिए घाटे का सौदा हो रहा है। इसलिए किसान बड़ी संख्या में सरकारी नलकूप और बघार और बम्बा नहर से जुड़े हुए हैं। खरीफ की फसल में धान की फसल में सबसे ज्यादा सिंचाई की आवश्यकता होती है। इसलिए किसान सरकारी नलकूपो के सहारे रहते है और नहरों में पानी के आने का इंतजार करते हैं। जिले में दो नहरें है। इसमे एक बम्बा नहर और एक बघार नाला है। इससे किसान सिंचाई करते है। लेकिन लगभग एक वर्ष बीत गया है दोनों नहरों में पानी नही छोड़ा गया है। उधर सरकारी नलकूपो की स्थिति भी ठीक नही है। सरकारी नलकूपो का संचालन सही न होने से किसान इसका बहुत कम लाभ मिल पा रहा है। बारिश न होने से किसान मांग कर रहे हैं कि बम्बा नहर और बघार नाले में पानी छोड़े जाने की मांग कर रहे हैं।

संबंधित खबरें