DA Image
20 सितम्बर, 2020|10:27|IST

अगली स्टोरी

नाक, कान, गले में दिक्कत हो तो इलाज कराने लोहिया न आएं

नाक, कान, गले में दिक्कत हो तो इलाज कराने लोहिया न आएं

अगर आपको नाक, कान और गले में दिक्कत है तो लोहिया अस्पताल में इलाज नहीं मिल सकेगा। ईएनटी सर्जन का रिन्यूवल नहीं हो पाया है जिसके चलते रोगी इलाज को छटपटा रहे हैं। ऐसे में दूर दराज से पहंुच रहे लोग निजी अस्पतालों में इलाज को जाने को मजबूर हो रहे हैं। लोहिया अस्पताल के ईएनटी सर्जन डॉ.शिखर सक्सेना की संविदा अभी रिन्यूवल नहीं हुई है। इसके चलते उन्होंने अस्पताल की ओपीडी में आना बंद कर दिया है। जबकि इनके पास एक सैकड़ा से अधिक मरीजों की ओपीडी में भीड़ रहती थी। ऐसे में अब जब ईएनटी सर्जन नहंी बैठ रहे हैं तो नाक, कान, गले के रोगियों को इलाज के लिए छटपटाना पड़ रहा है। इससे दूर दराज से पहुंचते मरीजों को परेशान होकर लौटना पड़ रहा है। अभी लोहिया अस्पताल में दूसरा कोई ईएनटी सर्जन भी नहीं है। वहीं जब इस तरह के रोग के लोग फिजीशियन या अन्य किसी डॉक्टर के पास जाते हैं तो उन्हें डॉक्टर देखने से पहले कोविड टेस्ट कराने की सलाह दे दते हैं इसके चलते मरीजों को लौटना पड़ता है। सीएमएस डॉ.एसपी सिंह ने बताया कि डॉक्टर शिखर का अभी रिन्यूवल नहीं हो पाया है जिसके चलते नाक, कान, गला के मरीजों का इलाज नहंी हो पा रहा है। जो डॉक्टर यहां हैं, इस रोग के लोग अन्य डॉक्टरों को दिखा लें।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Do not come to Lohia for treatment if you have problems with your nose ears throat