DA Image
29 सितम्बर, 2020|1:05|IST

अगली स्टोरी

चिप खत्म होने से ट्रू नॉट मशीन से जांच पर लगा ब्रेक

चिप खत्म होने से ट्रू नॉट मशीन से जांच पर लगा ब्रेक

कोरोना संक्रमण की रोकथाम के लिए रोजाना एक हजार सैंपल कराए जाने के जो निर्देश दिए गए हैं उस पर स्वास्थ्य विभाग कोई अमल नहीं कर रहा है। लोहिया अस्पताल में ट्रू नॉट मशीन को जैसे तैसे सही कराया गया तो अब चिप का संकट खड़ा हो गया है। ऐसे में 28 अगस्त की रात से ट्रू नॉट मशीन से जांच का काम पूरी तौर पर बंद है। संक्रमण के खतरे को भांपकर लोग लोहिया अस्पताल में जांच को पहुंच रहे हैं। मगर उन्हें मायूस होकर वापस लौटना पड़ रहा है। स्थिति यह है कि जिला अस्पताल से कही अधिक सैंपल लिंजीगंज के सिविल अस्पताल में लिए जा रहे हैं।

जिलाधिकारी मानवेंद्र सिंह ने रोजाना एक हजार कोरोना सैंपल कराने के निर्देश दिए हैं। स्वास्थ्य विभाग इसकी लगातार अनदेखी कर रहा है। जिस तेजी के साथ सैंपल होने चाहिए उस दिशा में कोई काम नहीं हो रहा है। संक्रमणकी पहचान के लिए जो ट्रू नॉट मशीन काफी सुविधाजनक बनी थी वह 27 अगस्त से खराब पड़ी थी। जैसे तैसे मशीन को सही कराया गया । इसके बाद इसमें चिप खत्म हो गई। अब चिप के लिए डिमांड लखनऊ से की गई है। टू नॉट मशीन से रोजाना करीब 20 से 35 जांचें होती थीं। जो काम फिलहाल बंद है। ट्रू नॉट मशीन से फिलहाल जांच का काम ब्रेक होने के बाद सोमवार को पहले दिन एंटीजन से सिर्फ 15 लोगों का कोरोना टेस्ट कराया गया। जबकि आरटीपीसीआर के लिए 41 लोगों का सैंपल कराया गया। वहीं दूसरी ओर लिंजीगंज के सिविल अस्पताल में प्रतिदिन 100 सैंपल हो रहे हैं यहां पर एंटीजन और आरटीपीसीआर दोनों प्रकार के सैंपल लिए जा रहे हैं। लोहिया अस्पताल में जांच को लेकर काम में ब्रेक लगने के बाद लोग लिंजीगंज अस्पताल की ओर दौड़ रहे हैं। लिंजीगज अस्पताल के अधीक्षक डॉ.आरिफ सिद्दीकी ने बताया कि अस्पताल में रोजाना सौ से अधिक सैंपल हो रहे हैं। वहीं लोहिया अस्पताल के सीएमएस डॉ.एसपी सिंह ने बताया कि टू नॉट मशीन की जो चिप खत्म हो गई है उसके लिए डिमांड की गई है। जल्द ही चिप आ जाएगी और जांच का काम तेजी के साथ शुरू होगा।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Checking brake on true knot machine due to chip exhaustion