DA Image
1 जून, 2020|4:37|IST

अगली स्टोरी

बोर्ड परीक्षाएं शुरू, नहीं थम रहा डीजे का शोर

बोर्ड परीक्षाएं तो सात फरवरी से शुरू हो गईं लेकिन गेस्ट हाउसों में बजने वाले तेज ध्वनि वाले डीजे/साउंड सिस्टम पर कोई रोक नहीं लगाई गई है। जबकि इसको लेकर डीएम पूर्व में ही निर्देश दे चुकी हैं। तेज आवाज में बजने वाले गानों से बच्चों क ो पढ़ाई करने में भी काफी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है।

बोर्ड परीक्षा शुरू होने से पहले प्रशासन द्वारा परीक्षा के दौरान डीजे संचालकों को डीजे व साउंड सिस्टम कम आवाज में बजाने की चेतावनी दी गई थी। लेकिन डीजे संचालकों पर इसका कोई असर नहीं दिख रहा है। शहर के गेस्ट हाउसों में यह शोर इतनी तेजी के साथ होता है कि आस पास रहने बाले लोग तो परेशान होते ही हैं वहीं बच्चों की पढ़ाई में काफी विघ्न भी पड़ता है। सात फरवरी से शुरू हुई बोर्ड परीक्षा दो मार्च तक चलेगी। परीक्षा शुरू होने से पहले जिलाधिकारी मोनिका रानी द्वारा डीजे संचालकों को धीमी आवाज में डीजे व साउंड बजाने के निर्देश दिए गए थे । उन्हें यह भी निर्देश दिया गया था कि जब तक परीक्षाएं चल रही हैं तब तक तेज आवाज में डीजे व साउंड न बजाया जाए। इसके अलावा रात दस बजे के

बाद तो पूर्ण रूप से डीजे और साउंड बजाने पर पाबंदी लगा दी गई थी। लेकिन जिलाधिकारी के इस फरमान का असर डीजे/म्यूजिक संचालकों पर नहीं है। वह खुलेआम डीएम के आदेशों का उल्लंघन करते हुए तेज आवाज के साथ रात के दस बजे के बाद भी डीजे/साउंड गेस्ट हाउसों में मांगलिक कार्यक्रमों में बजा रहे हैं। तेज आवाज में बज रहे डीजे के कारण आस पास के लोगों को जहां दिक्कत होती है तो वहीं परीक्षार्थियों को अपनी पढ़ाई में परेशानी हो रही है।