DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

जेल से रिहा हुए फौजी ने डीएम से मांगा इंसाफ

नौगवां कैंट के फौजी दयाराम ने अपनी मांगों को लेकर अभी हार नहीं मानी है। जेल से रिहा होने के उपरांत फौजी इंसाफ के लिए डीएम के पास पहुंचा। उसका कहना है कि जब तक उसे न्याय नही मिलेगा वह अपनी आवाज उठाता रहेगा। सैनिक ने अपने प्रार्थना पत्र में कहा कि पांचालघाट के गंगानदी में उसने दस घंटे तक जल सत्याग्रह किया था। शहर कोतवाल जबरदस्ती उठा ले गए और लोहिया अस्पताल में भर्ती करा दिया इसके बाद जेल भेज दिया गया था। फौजी ने बताया कि जेल से आने के बाद 25 मई को सुबह 11 बजे पुन: जिलाधिकारी को पत्र दिया गया था। इस पर डीएम ने कोतवाल को फोन कर कहा कि समस्या के समाधान के निर्देश दिए गए थे। फर्रुखाबाद कोतवाल कई दिन से उसे सुबह से शाम तक बैठाए रहते मगर उसकी समस्या का समाधान नहीं किया गया। 29 मई को कोतवाल ने संबंधित आरोपी व्यक्ति को बुलाया और गलत तरीके से समझौता कराने का दबाव बनाया। डीएम से इंसाफ की मांग की गई है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: Army released from jail, seeks justice from DM