ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News उत्तर प्रदेश फैजाबादप्राण प्रतिष्ठा: कारसेवकपुरम में एक हजार की क्षमता वाले टेंट सिटी का निर्माण पूरा

प्राण प्रतिष्ठा: कारसेवकपुरम में एक हजार की क्षमता वाले टेंट सिटी का निर्माण पूरा

तैयारियां मणिराम छावनी के प्राकृतिक चिकित्सालय में भी टेंट सिटी का निर्माण शुरू प्रबंधन...

प्राण प्रतिष्ठा: कारसेवकपुरम में एक हजार की क्षमता वाले टेंट सिटी का निर्माण पूरा
हिन्दुस्तान टीम,फैजाबादThu, 30 Nov 2023 11:55 PM
ऐप पर पढ़ें

तैयारियां

मणिराम छावनी के प्राकृतिक चिकित्सालय में भी टेंट सिटी का निर्माण शुरू

प्रबंधन योजना के अन्तर्गत अनुषांगिक संगठनों के कार्यकर्ताओं की बैठक तीन दिसंबर को होगी

अयोध्या। संवाददाता

रामलला के प्राण प्रतिष्ठा महोत्सव की तैयारियां श्रीरामजन्म भूमि तीर्थ क्षेत्र के अलावा विहिप व संघ परिवार के सभी घटक कर रहे है। रामलला के समक्ष पूजित अक्षतों के पैकेट तैयार कर जिला व प्रखंड वार भेजने की प्रक्रिया भी शुरू हो गयी है। पूर्वी उत्तरप्रदेश के चारों प्रांतों अवध- काशी- गोरक्ष व कानपुर के सभी प्रांतों में पूजित अक्षत पहले ही भेजे जा चुके हैं। अब प्रांतों से जिलेवार पैकेट भेजे जा रहे हैं। उधर प्राण प्रतिष्ठा के बाद 26 जनवरी से 20 फरवरी 2024 के बीच अलग-अलग प्रांतों के श्रद्धालुओं को लाने की तिथियां भी तय हो गयी है। इसके साथ उनके आवासों का निर्माण भी गति पकड़ चुका है। कारसेवकपुरम में टेंट सिटी का निर्माण हो गया है जबकि मणिराम छावनी के प्राकृतिक चिकित्सालय में निर्माण जारी है।

प्राण प्रतिष्ठा प्रबंधन समिति की बैठक में सभी ईकाईयों की समन्वय बैठक कर एक जनवरी से 15 जनवरी के बीच घर-घर आमंत्रण देने के लिए टोलियों के गठन व प्रभारियों के नामों की घोषणा करने का निर्देश दिया गया है। इस निर्देश के क्रम में बैठकें भी शुरू हो गया है। बताया गया अयोध्या महानगर के परिक्षेत्र को संगठन के दृष्टिगत 15 नगरों में बांटा गया है। इन नगरों में मोहल्लों के लिहाज से अलग-अलग बस्तियां बनाई गयी है। इन नगरों में 91 बस्तियां हैं। नेतृत्व के निर्देशानुसार सभी की अलग-अलग बैठकें 30 नवम्बर गुरुवार से शुरू हो गयी है। इन बैठकों में घर-घर आमन्त्रण के लिए नगर वार समितियों का गठन किया जाएगा और सभी बस्तियों के प्रमुखों के नाम भी तय किए जाएंगे।

अयोध्या धाम के चारों नगरों की हुई बैठकें:

संघ के सांगठनिक ढांचा की दृष्टि से अयोध्या धाम को चार नगरों में बांटा गया है। यह नगर है रामलला नगर , हनुमत नगर, मानस नगर व अशोक सिंहल नगर। इन चारों नगरों की बैठकें अलग-अलग समय व स्थान पर गुरुवार को आयोजित की गयी। बैठकों में अलग-अलग समितियों का गठन कर सभी बस्तियों के प्रमुखों के नाम भी तय कर दिए गये। बैठकों में लिए गये निर्णयों की जानकारी में बताया गया कि राम मंदिर निर्माण के लिए निधि समर्पण अभियान की तर्ज पर सम्पर्क कर अक्षत व पत्रक के साथ राम मंदिर का संशोधित माडल भी भेंट किया जाएगा और नियत स्थान पर पूजन कार्यक्रम में परिवार के सदस्यों को शामिल होने का आग्रह किया जाएगा।

अयोध्या विभाग की दो दिवसीय त्रैवार्षिक योजना बैठक शनिवार से होगी:

साकेत निलयम में शनिवार दो दिसम्बर से अयोध्या विभाग की बैठक तय की गयी है। इस बैठक महानगर ईकाई की पूरी कार्यकारिणी के अलावा अयोध्या जिला, बाराबंकी व अम्बेडकर नगर के संगठन के विभाग व जिला स्तरीय पदाधिकारियों को बुलाया गया है। बताया गया कि शनिवार को परिचय सत्र के बाद रविवार को प्रातः काल से सायं आठ बजे तक अलग-अलग स्तरों में बैठकें होंगी। इस बैठक में संगठन के पदाधिकारियों के दायित्वों में भी परिवर्तन होगा और नये लोगों को नये दायित्व भी सौंपे जाएंगे। वहीं कतिपय कारणों से समय न दे पाने पदाधिकारी दायित्व से मुक्त भी होंगे। बताया गया कि यह योजना बैठक है जो त्रैवार्षिक है।

यह हिन्दुस्तान अखबार की ऑटेमेटेड न्यूज फीड है, इसे लाइव हिन्दुस्तान की टीम ने संपादित नहीं किया है।
हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें