ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News उत्तर प्रदेशगर्ल्स नार्मल परिसर में ढहाया गया डीडीआर का बंगला

गर्ल्स नार्मल परिसर में ढहाया गया डीडीआर का बंगला

कई अस्थाई मकान गिराए गए, कुछ कोठरियां भी गिरेंगी अयोध्या विकास प्राधिकरण ने कई...

गर्ल्स नार्मल परिसर में ढहाया गया डीडीआर का बंगला
हिन्दुस्तान टीम,फैजाबादThu, 30 Nov 2023 11:55 PM
ऐप पर पढ़ें

कई अस्थाई मकान गिराए गए, कुछ कोठरियां भी गिरेंगी

अयोध्या विकास प्राधिकरण ने कई हरे भरे पेड़ों को भी कटवाया

गर्ल्स नार्मल कालोनी के निकट परिसर में बनेगा एडीए व नगर निगम का संयुक्त कार्यालय

अयोध्या संवाददाता। सिविल लाइन स्थित गर्ल्स नार्मल कालोनी परिसर स्थित उप शिक्षा निदेशक का आवास ढहाया जा रहा है। यहां साईं मंदिर परिसर में लगभग 80 वर्षों से घर बना कर निवास कर रहे अनुसूचित जाति व पिछड़े वर्ग के कुछ लोगों को बिना किसी लिखित नोटिस के विकास प्राधिकरण द्वारा बुलडोजर लगाकर उनके घरों को गिराया जा रहा है। यहां पर अयोध्या विकास प्राधिकरण और नगर निगम का संयुक्त कार्यालय का निर्माण होना है। इसी के निर्माण की प्रक्रिया के तहत अब तक चल रही है।

गुरुवार को यहां चल रही ध्वस्तीकरण की प्रक्रिया के दौरान झुग्गी झोपड़ी के रहने वालो को भी बेदखल कर कोठरियां ढहाई जाने की प्रक्रिया शुरू होने वाली थी। मौके पर पहुंचे अशफाक उल्ला वार्ड के पार्षद अखिलेश पाण्डेय अखिल ने वहां मौजूद अयोध्या विकास प्राधिकरण के एक अधिकारी से कहा कि जब तक यहां रहने वाले गरीबों को कहीं विस्थापित न कर दिया जाए और उचित मुआवजा न मिल जाए तब तक उन्हें बेदखल न किया जाए। इस पर अधिकारी ने कहा कि इन्हें दो माह का समय दिया गया लेकिन अब आपको बात करनी है तो नगर आयुक्त से करिये। पार्षद ने बताया कि इन आवासों में बुजुर्ग महिलाएं, बीमार महिलाएं शिक्षणरत एंव बच्चे छोटी बच्चियां रहती हैं। पार्षद का कहना है कि इन सभी का भविष्य हाशिये पर है। उपरोक्त निवासियों का पिछले कई वर्षों से इसी स्थान पर निवास प्रमाण पत्र, वोटर आईडी, आधार कार्ड इत्यादि प्रपत्र निर्गत हैं साथ ही बिजली का मीटर इनके घरों पर पिछले कई वर्षो से लगा है जिसका निरंतर भुगतान भी उक्त निवासियों द्वारा किया जा रहा था। आज सभी उपरोक्त निवासीगण शासन प्रशासन की ओर से कोई भी व्यवस्था न दिलाए जाने और अपने घरों को टूटता देख पूर्ण रूप से अवसाद में है। स्थानीय निवासी शांति का कहना है की प्रशासन की ओर से आवास एवं मुआवजा दिलाए जाने का आश्वासन भी दिया गया था परंतु आज तक न ही कोई उन्हें आवास दिलाया गया और ना ही कोई उचित मुआवजा दिलाया गया।

यह हिन्दुस्तान अखबार की ऑटेमेटेड न्यूज फीड है, इसे लाइव हिन्दुस्तान की टीम ने संपादित नहीं किया है।
हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें