DA Image
22 सितम्बर, 2020|6:54|IST

अगली स्टोरी

फर्जी एसओजी अधिकारी बनकर ठगी व लूट करने वाले तीन दबोचे

फर्जी एसओजी अधिकारी बनकर ठगी व लूट करने वाले तीन दबोचे

कोरोना संक्रमण में मास्क की अनिवार्यता का फायदा उठाते हुए बदमाशों ने जमकर लूटपाट की। लूटपाट करने के लिए बदमाश फर्जी एसओजी अधिकारी बन गए और मास्क चेकिंग के नाम पर न केवल उनसे ठगी की बल्कि मौका पाकर लूट भी की। पुलिस ने चेकिंग के दौरान तीन बदमाशों को दबोचा तो मामला खुलकर सामने आया। बदमाशों के पास से एसओजी के फर्जी आईडी कार्ड भी बरामद हुए हैं।

एसएसपी आकाश तोमर को कानपुर-आगरा हाईवे पर दो बाइक पर सवार होकर बदमाशों के निकलने की जानकारी मिली। इस पर उन्होंने सीओ सिटी एसएन वैभव पांडे के नेतृत्व में एसओजी व इकदिल पुलिस को बदमाशों की घेराबंदी की जिम्मेदारी सौंपी। सोमवार की रात हाईवे पर एसओजी प्रभारी सत्येंद्र यादव, सर्विलांस प्रभारी बीके सिंह व इकदिल प्रभारी निरीक्षक मदन गोपाल गुप्ता की टीम ने घेरेबंदी को मानिकपुर मोड़ पर जाल बिछाया। कुछ ही देर बाद इकदिल की ओर से दो बाइकों पर चार लोग आते दिखाई दिए, पुलिस को देखकर वे कुछ दूर पहले से ही वापस भागने लगे। पुलिस ने उनको घेर लिया और तीन बदमाशों को दबोच लिया। जबकि एक बदमाश भाग निकला। पकड़े गए बदमाशों ने अपने नाम शेषपाल यादव व हरिश्चंद्र दोनों निवासी जैनई जसवन्तनगर व इमरान उर्फ बबलू फक्कड़पुरा जसवंतनगर बताए। बदमाशों की तलाशी लेने पर उनके पास से 112000 रुपए और असलहे व एसओजी के फर्जी आईडी कार्ड बरामद हुए। बदमाशों ने पुलिस को बताया कि वे सुनसान इलाके में मास्क चेक करने के बहाने वाहनों को रोकते थे और उनको एसओजी अधिकारी बताकर ठगी करते थे। कभी कभी वे वाहन स्वामी से लूट भी कर लेते थे। पुलिस ने तीनों बदमाशों को गिरफ्तार करके जेल भेजा है। जबकि उनके चौथे साथी की तलाश की जा रही है।

बदमाशों से ये हुई बरामदगी

112000, 2 मोबाइल फोन, 1 डीवीआर, 2 मोटर साइकिल, 2 फर्जी एसओजी के आईकार्ड, 1 सोने की जंजीर, 3 सोने की अंगूठी।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Three caught cheating and robbing as fake SOG officers